शर्तिया दमा यानी अस्थमा के बारे में आप ये नहीं जानते होंगे

एक दशक से अधिक समय पहले, एनआईएआईडी द्वारा वित्त पोषित शोध से पता चला कि घर में पालतू जानवरों के साथ बढ़ने से अस्थमा और एलर्जी विकसित होने की संभावना कम हो जाती है।

दमा (Asthma in Hindi)

अस्थमा एक पुरानी फेफड़ों की बीमारी है जो वायुमार्ग के संकुचन और रुकावट की विशेषता है, जिससे घरघराहट, खांसी, सीने में जकड़न और सांस की तकलीफ होती है। अस्थमा जीवन की गुणवत्ता को कम करता है।

गंभीर अस्थमा के आक्रमण के लिए आपातकालीन कमरे के दौरे और अस्पताल में भर्ती होने की आवश्यकता हो सकती है, और वे घातक हो सकते हैं।

अस्थमा ट्रिगर को समझना | Understanding Asthma Triggers

अस्थमा एक पुरानी बीमारी है जिसमें फेफड़ों में वायुमार्ग सूजन हो जाता है। सूजन का कारण बनता है और जलन या अन्य ट्रिगर्स के जवाब में वायुमार्ग की प्रवृत्ति को कसने के लिए बढ़ जाती है। वायुमार्ग संकरा हो जाता है, जिससे सांस लेने में कठिनाई होती है और घरघराहट, खांसी और सीने में जकड़न जैसे लक्षण दिखाई देते हैं। वायुमार्ग की सूजन एलर्जी के कारण हो सकती है, जैसे कि धूल के कण, मोल्ड और तिलचट्टे से; विषाणु संक्रमण; और वायु प्रदूषण, जैसे डीजल निकास और पर्यावरणीय तंबाकू का धुआं।

Symptoms of Asthma in Hindi | अस्थमा के लक्षण हिंदी में

NIAID समर्थित शोध ने उन कारकों की समझ को बढ़ाया है जो अस्थमा की गंभीरता में योगदान करते हैं। अध्ययनों से पता चला है कि घर में एलर्जीकारक तत्वों कम करने से अस्थमा के लक्षण कम हो सकते हैं।

अस्थमा फेनोटाइप्स इनर सिटी (Asthma Phenotypes in the Inner City  APIC) के अध्ययन के परिणाम, 2016 में रिपोर्ट किए गए, जिसमें कई एलर्जी को कई कारक तत्वों को बताया गया जिनमें खराब फेफड़ों के कार्य, एलर्जी राइनाइटिस के प्रति संवेदनशीलता और बच्चों में अस्थमा की गंभीरता से जुड़े प्रमुख कारकों के रूप में चिह्नित किए गए थे।

यह भी पढ़ें – आइए जानते हैं अस्थमा क्या है? बच्चों पर क्या है इसका असर

अन्य एनआईएआईडी-समर्थित शोध से पता चला है कि बैक्टीरिया और वायरल संक्रमण का अस्थमा के लक्षणों से सीधा संबंध है। 2014 में, विस्कॉन्सिन विश्वविद्यालय-मैडिसन के शोधकर्ताओं ने बताया कि संयुक्त वायरल और बैक्टीरियल संक्रमण अस्थमा के लक्षणों में वृद्धि से जुड़े हैं जो कि कई बच्चों को गिरने के दौरान अनुभव करते हैं।

2015 में उन्हीं शोधकर्ताओं ने एक सेलुलर रिसेप्टर rhinovirus C की पहचान की, जो एक ठंडा पैदा करने वाला वायरस है, जो गंभीर अस्थमा के हमलों से दृढ़ता से जुड़ा होता है।

अस्थमा के लक्षणों का प्रबंधन | Managing Asthma Symptoms

एनआईएआईडी-समर्थित शोध ने स्थापित किया है कि घरेलू एलर्जी – जैसे कि धूल के कण और तिलचट्टे को कम करने – और दिशानिर्देश-आधारित अस्थमा चिकित्सा को लागू करने से अस्थमा के लक्षणों और स्वास्थ्य देखभाल संबंधी दौरे कम हो सकते हैं। इस शोध का अधिकांश हिस्सा कम आय वाले शहरी क्षेत्रों में आयोजित किया गया है, जहां अस्थमा अधिक प्रचलित और गंभीर है।

अस्थमा जोखिम कारक और रोकथाम अनुसंधान | Asthma Risk Factors and Prevention Research,

जीवन की शुरुआत में माइक्रोबियल जोखिम (Microbial exposures) बाद में बचपन की एलर्जी और अस्थमा के विकास के जोखिम को प्रभावित कर सकता है। एक दशक से अधिक समय पहले, एनआईएआईडी द्वारा वित्त पोषित शोध से पता चला कि घर में पालतू जानवरों के साथ बढ़ने से अस्थमा और एलर्जी विकसित होने की संभावना कम हो जाती है।

यह भी पढ़ें –गंभीर है गर्भावस्था में दमा का अटैक, बरतें ये सावधानी

हाल ही में, एनआईएआईडी द्वारा वित्त पोषित शहरी पर्यावरण और बचपन अस्थमा (यूआरईसीए) अध्ययन (NIAID-funded Urban Environment and Childhood Asthma (URECA)) से पता चला है कि बचपन के दौरान पालतू और कीट एलर्जी के उच्च इनडोर स्तर के संपर्क में आने वाले बच्चों में 7 साल की उम्र तक अस्थमा विकसित होने का खतरा कम होता है। इस सुरक्षात्मक प्रभाव का कारण पूरी तरह से समझा नहीं गया है, लेकिन एक अलग अध्ययन में, एनआईएआईडी द्वारा वित्त पोषित शोधकर्ताओं ने पाया कि कुत्तों के साथ घरों से घर की धूल में रोगाणुओं होते हैं जो बच्चों को अपने फेफड़ों में अस्थमा जैसे परिवर्तनों को विकसित करने से रोक सकते हैं।

इन शोधकर्ताओं ने शिशुओं के मल में रोगाणुओं और सूक्ष्म-व्युत्पन्न रसायनों के एक विशिष्ट पैटर्न की भी पहचान की, जो जीवन में कई एलर्जी और अस्थमा के विकास से जुड़े हैं।

यह भी पढ़ें – धूल भरी आंधी एवं बदलते मौसम की दोहरी मार झेल रहे दमा के मरीज, ऐसे करें बचाव

नोट – यह समाचार किसी भी हालत में चिकित्सकीय परामर्श नहीं है। यह समाचारों में उपलब्ध सामग्री के अध्ययन के आधार पर जागरूकता के उद्देश्य से तैयार की गई अव्यावसायिक रिपोर्ट मात्र है। आप इस समाचार के आधार पर कोई निर्णय कतई नहीं ले सकते। स्वयं डॉक्टर न बनें किसी योग्य चिकित्सक से सलाह लें।) 

जानकारी का स्रोत -साभार: NIAID

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Leave a Comment
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations