Home » समाचार » दुनिया » जानिए ऑटोइम्यून रोग के बारे में : जब आपका शरीर आपके ही खिलाफ हो जाता है
autoimmune diseases in hindi

जानिए ऑटोइम्यून रोग के बारे में : जब आपका शरीर आपके ही खिलाफ हो जाता है

ऑटोइम्यून रोग को समझना

Understanding Autoimmune Diseases in Hindi : When Your Body Turns Against You

आपके शरीर की रोग रक्षा प्रणाली, जिसे प्रतिरक्षा प्रणाली कहा जाता है, प्रतिदिन युद्ध के लिए जाती है। यह आपके शरीर में घुसने वाले वायरस और बैक्टीरिया से लड़कर (fighting off viruses and bacteria ) आपको स्वस्थ रखने में मदद करता है। लेकिन कई बार आपका इम्यून सिस्टम गलतियां कर देता है। यदि यह आपके शरीर की स्वस्थ कोशिकाओं को खतरे के रूप में देखता है, तो यह उन पर हमला कर सकता है। इससे ऑटोइम्यून डिसऑर्डर (autoimmune disorder) हो सकता है।

यूएस डिपार्टमेंट ऑफ़ हेल्थ एंड ह्यूमन सर्विसेस के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ के मासिक न्यूज़लैटर एनआईएच न्यूज़ इन हैल्थ के ताजा अंक में ऑटोइम्यून डिसऑर्डर्स और ऑटोइम्यून बीमारियों के विषय में विस्तार से चर्चा की गई है। जिसके मुताबिक

कई अलग-अलग ऑटोइम्यून बीमारियां हैं। कुछ में केवल एक प्रकार का ऊतक शामिल होता है। उदाहरण के लिए, वास्कुलिटिस नामक बीमारी (vasculitis) में, आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली आपकी रक्त वाहिकाओं पर हमला करती है। अन्य ऑटोइम्यून बीमारियों में शरीर के कई अलग-अलग हिस्से शामिल होते हैं। उदाहरणार्थ के लिए, ल्यूपस (Lupus) त्वचा, हृदय, फेफड़े और बहुत कुछ को नुकसान पहुंचा सकता है।

अधिकांश ऑटोइम्यून रोग सूजन का कारण बनते हैं। लेकिन वे जो लक्षण पैदा करते हैं, वे प्रभावित शरीर के अंगों पर निर्भर करते हैं। आपके जोड़ों या मांसपेशियों में दर्द हो सकता है। या आपको त्वचा पर चकत्ते, बुखार या थकान का अनुभव हो सकता है।

अधिकांश ऑटोइम्यून बीमारियों का क्या कारण है?

शोधकर्ता अभी भी यह नहीं जानते हैं कि अधिकांश ऑटोइम्यून बीमारियों का कारण क्या है। लेकिन उन्होंने यह समझने में जानकारी हासिल की है कि आपको क्या जोखिम में डालता है और उनका निदान और उपचार करने के तरीकों का पता लगाया है।

ट्रिगर क्या हैं? What Are the Triggers?

कुछ ऑटोइम्यून रोग दुर्लभ हैं, लेकिन अन्य काफी सामान्य हैं। ऑटोइम्यून बीमारियों के एनआईएच में विशेषज्ञ डॉ मारियाना कपलान (Dr Mariana Kaplan, an NIH specialist in autoimmune diseases) बताते हैं कि अमेरिका में लगभग एक फीसदी लोगों को रुमेटीइड गठिया है। रुमेटीइड गठिया (Rheumatoid arthritis) जोड़ों को नुकसान पहुंचाता है।

कुछ जीन आपको ऑटोइम्यून डिसऑर्डर विकसित करने के लिए उच्च जोखिम (higher risk for developing an autoimmune disorder) वाले होते हैं। वास्कुलाइटिस पर एनआईएच में विशेषज्ञ डॉ पीटर ग्रेसन (Dr Peter Grayson, an NIH expert on vasculitis) कहते हैं, लेकिन अकेले जीन आमतौर पर पर्याप्त नहीं होते हैं। उनकी टीम ने हाल ही में एक एकल जीन परिवर्तन पाया जो वृद्ध पुरुषों में वास्कुलिटिस का कारण (vasculitis in older men) बन सकता है।

ज्यादातर लोग जो ऑटोइम्यून बीमारियों से जुड़े जीन (genes linked with autoimmune diseases) को ढो रहे होते हैं उनमें अभी भी यह बीमारी विकसित नहीं होगी। आमतौर पर, प्रतिरक्षा प्रणाली को प्रेरित करने के लिए एक या अधिक ट्रिगर्स की आवश्यकता होती है।

मांसपेशियों की बीमारियों के एनआईएच में विशेषज्ञ डॉ एंड्रयू मैमेन (Dr Andrew Mammen, an NIH expert on muscle diseases) बताते हैं कि आपके वातावरण में अलग-अलग चीजें ट्रिगर का काम कर सकती हैं। उनकी टीम मायोसिटिस (myositis), एक ऐसी बीमारी जिसमें प्रतिरक्षा कोशिकाएं मांसपेशियों पर हमला करती हैं, का अध्ययन कर रही है।

मैमेन बताते हैं कि बहुत अधिक सूर्य का संपर्क उन लोगों में, जिनको कुछ अनुवांशिक जोखिम कारक हैं, एक प्रकार का मायोजिटिस ट्रिगर कर सकता है। वे कहते हैं, लेकिन ज्यादातर लोगों को इस स्थिति को विकसित करने के लिए अन्य ट्रिगर्स की भी आवश्यकता होती है, जो हमेशा स्पष्ट नहीं होते हैं।

कुछ वायरस ऑटोइम्यून अटैक को भी शुरू कर सकते हैं। हाल ही में एनआईएच-वित्त पोषित अध्ययन में पाया गया कि एपस्टीन-बार नामक एक वायरस (virus called Epstein-Barr) मल्टीपल स्केलेरोसिस, या एमएस (multiple sclerosis, or MS) के कुछ मामलों को ट्रिगर कर सकता है। एमएस एक ऑटोइम्यून बीमारी है जो नसों को नुकसान पहुंचाती है।

ऑटोइम्यून बीमारी के अन्य जोखिम कारकों में आपकी उम्र, लिंग, धूम्रपान इतिहास और वजन शामिल हो सकते हैं। कई ऑटोइम्यून रोग भी पुरुषों की तुलना में महिलाओं में अधिक आम हैं।

ऑटोइम्यून बीमारी का निदान कैसे करें? Getting a Diagnosis of an autoimmune disease

ग्रेसन कहते हैं, एक ऑटोइम्यून बीमारी के निदान में समय लग सकता है। खासकर अगर यह एक ऐसी बीमारी है जो आपके शरीर के कई हिस्सों को प्रभावित करती है।

लोग अक्सर अलग-अलग लक्षणों के लिए अलग-अलग डॉक्टरों के पास जाते हैं। ग्रेसन कहते हैं कि “उदाहरण के लिए यदि आप एक नेत्र चिकित्सक, एक त्वचा चिकित्सक, और एक फेफड़े के डॉक्टर अलग से दिखा रहे हैं, तो वे यह नहीं देख सकते हैं कि आपके लक्षण आपस में जुड़े हुए हैं।”

ऑटोइम्यून बीमारियों के लक्षण (Symptoms of autoimmune diseases)
health news

ऑटोइम्यून बीमारियों के लक्षण भी कई अन्य स्थितियों की नकल कर सकते हैं। कपलान कहते हैं “उदाहरण के लिए, हम ल्यूपस को ‘महान नकलची’ कहते हैं, क्योंकि यह कई अन्य बीमारियों की तरह दिख सकता है।”

यदि आपको मांसपेशियों, हड्डी या जोड़ों में दर्द हो रहा है जो किसी चोट से संबंधित नहीं है, या यदि आपको कई क्षेत्रों में या लंबे समय से दर्द हो रहा है, तो अपने स्वास्थ्य देखभाल प्रदाता से बात करें। वे आपको रुमेटोलॉजिस्ट (rheumatologist) के पास भेज सकते हैं। रुमेटोलॉजिस्ट एक डॉक्टर होता है जो सूजन पैदा करने वाली बीमारियों में माहिर होता है।

आपका डॉक्टर एंटीबॉडी, इन्हें स्वप्रतिपिंड कहते हैं, की तलाश के लिए, जो आपके अपने ऊतकों पर हमला कर रहे हैं, (blood tests to look for antibodies) रक्त परीक्षण का उपयोग कर सकता है। लेकिन आपके रक्त में उनका होना एक ऑटोइम्यून बीमारी का निदान करने के लिए पर्याप्त नहीं है। कपलान बताते हैं कि बहुत से लोगों के खून में यह स्वप्रतिपिंड होते हैं, लेकिन वे बीमार नहीं पड़ते।

ऑटोइम्यून डिसऑर्डर के लक्षणों को देखने के लिए भी इमेजिंग तकनीकों का उपयोग किया जा सकता है। एक्स-रे जोड़ों से जुड़े मुद्दों को दिखा सकते हैं। एमआरआई शरीर में गहरे नुकसान को प्रकट कर सकते हैं।

शोधकर्ता ऑटोइम्यून बीमारियों के निदान या निगरानी में मदद के लिए इमेजिंग का उपयोग करने के नए तरीके खोजने की कोशिश कर रहे हैं। ग्रेसन की प्रयोगशाला परीक्षण कर रही है कि क्या पीईटी स्कैन वास्कुलिटिस पीड़ित लोगों की रक्त वाहिकाओं में छिपी सूजन (hidden inflammation in the blood vessels of people with vasculitis) का पता लगा सकता है?

ऑटोइम्यून रोग के लक्षण (Autoimmune Disease Symptoms)

ऑटोइम्यून बीमारियों के लक्षण अन्य समस्याओं की नकल कर सकते हैं। आम लक्षणों में शामिल हैं :

  • लाली, गर्मी, दर्द, और शरीर के एक या अधिक भागों में सूजन
  • हर समय थकान महसूस होना (थकान)
  • जोड़ों का दर्द और जकड़न
  • मांसपेशियों में दर्द या कमजोरी
  • त्वचा की समस्याएं जैसे कि चकत्ते, घाव और सूखी या पपड़ीदार त्वचा
  • सांस की तकलीफ या सांस लेने में तकलीफ
  • बुखार जो आता है और चला जाता है
  • भूख में कमी।

ऑटोइम्यून बीमारी के हमले को कम करना (Tamping Down the Attack of autoimmune disease)

woman demonstrating breast with scars after cancer surgery. Autoimmune disease.
Photo by Michelle Leman on Pexels.com

ऑटोइम्यून डिस्आर्डर्स का अभी तक कोई इलाज नहीं है, लेकिन शोधकर्ताओं ने लक्षणों के प्रबंधन में प्रगति की है।

कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स (corticosteroids) नामक दवाएं अक्सर ऑटोइम्यून बीमारी के लिए प्राथमिक उपचार (first treatment for an autoimmune disease) होती हैं। मैमेन कहते हैं “वे जल्दी से काम करते हैं, और वे प्रभावी हैं,” मैमेन कहते हैं।

लेकिन स्टेरॉयड आपके पूरे इम्यून सिस्टम को दबा देते हैं, तो स्टेरॉयड के गंभीर दुष्प्रभाव हो सकते हैं। स्टेरॉयड के गंभीर दुष्प्रभावों में उच्च रक्तचाप, हड्डियों का नुकसान और वजन बढ़ना शामिल हैं।

अन्य दवाएं केवल प्रतिरक्षा प्रणाली के कुछ हिस्सों को दबा देती हैं। इनका दुष्प्रभाव कम होता है और इन्हें लंबे समय तक इस्तेमाल किया जा सकता है। इनमें से कुछ दवाएं उन कोशिकाओं से छुटकारा दिलाती हैं जो कुछ एंटीबॉडी बनाती हैं। अन्य विशिष्ट प्रतिरक्षा-प्रणाली प्रोटीन को लक्षित करते हैं। ऐसी ही एक दवा हाल ही में एक दशक में ल्यूपस के लिए स्वीकृत पहली नई दवा थी।

ग्रेसन कहते हैं, आपको अपने लक्षणों को नियंत्रित करने के लिए सबसे अच्छा काम करने वाली दवाओं को खोजने के लिए कई अलग-अलग दवाओं की कोशिश करनी पड़ सकती है। उन्होंने आगे कहा कि बीमारी के इलाज के साथ जीवन की गुणवत्ता को संतुलित करने के लिए अपने डॉक्टर के साथ काम करना महत्वपूर्ण है।

मैमेन कहते हैं कि जीवनशैली में बदलाव भी लक्षणों को नियंत्रित करने में मदद कर सकते हैं। ऑटोइम्यून बीमारियों, विशेष रूप से मायोसिटिस और एमएस जो मांसपेशियों को प्रभावित करते हैं, के लिए गतिशील रहना महत्वपूर्ण है। वे कहते हैं, “हम वास्तव में व्यायाम की सिफारिश लिखते हैं, यह वैकल्पिक नहीं है; यह इलाज का हिस्सा है।”

अपने स्वास्थ्य देखभाल प्रदाता से उन विभिन्न शारीरिक गतिविधियों के बारे में बात करें जिन्हें आप आजमा सकते हैं। योग, वाटर एरोबिक्स या पैदल चलने जैसे कम प्रभाव वाले वर्कआउट कुछ लोगों के लिए मददगार हो सकते हैं।

शोधकर्ता बेहतर उपचार विकसित करने के लिए काम कर रहे हैं। एनआईएच परियोजनाएं ऑटोइम्यून बीमारियों के लिए नए उपचार और अनुसंधान उपकरण खोजने के लिए वैज्ञानिकों, गैर-लाभकारी समूहों और दवा कंपनियों को एक साथ ला रही हैं।

मैमेन बताते हैं कि शोधकर्ता लक्षणों का कारण बनने से पहले ऑटोम्यून्यून बीमारियों का पता लगाने के तरीकों को ढूंढना चाहते हैं। वे कहते हैं, “शायद एक समय अवधि है जहां प्रारंभिक उपचार एक विकासशील पर ब्रेक लगा सकता है।”

हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें. ट्विटर पर फॉलो करें. वाट्सएप पर संदेश पाएं. हस्तक्षेप की आर्थिक मदद करें

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

science research news in hindi

बिना चारफाड़ मस्तिष्क की कनेक्टिविटी बताएगा भारतीय शोधकर्ताओं द्वारा तैयार नया एल्गोरिदम

भारतीय शोधकर्ताओं द्वारा तैयार किया गया नया एल्गोरिथम बिना चीर-फाड़ के बताएगा मस्तिष्क की कनेक्टिविटी …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.