Home » Latest » जानिए सनक या जुनून/ ओसीडी क्या है, कैसे यह मानसिक स्वास्थ्य की समस्या है
Health News

जानिए सनक या जुनून/ ओसीडी क्या है, कैसे यह मानसिक स्वास्थ्य की समस्या है

When Unwanted Thoughts Intrude: Understanding Obsessive-Compulsive Disorder in Hindi

जब दिमाग में घुसते हैं अनचाहे विचार : जुनूनी-बाध्यकारी विकार को समझें

रोगाणु जैसी चीजों के बारे में चिंता करना या स्टोव बंद है कि नहीं, या घर का ताला ठीक से हंद किया या नहीं, इसकी दोहरी जांच करना आम बात है। लेकिन जुनूनी-बाध्यकारी विकार या मनोग्रसित-बाध्यता विकार (obsessive compulsive disorder meaning in hindi  ओसीडी) वाले लोगों के लिए, ये विचार और व्यवहार इतने गंभीर हो जाते हैं कि वे दैनिक जीवन में हस्तक्षेप करने लगते हैं।

OCD in Hindi | OCD bimari kya hai | Obsessive-compulsive disorder in Hindi | ओसीडी क्या है

ओसीडी एक मानसिक स्वास्थ्य स्थिति (Mental health situation) है जो बार-बार अवांछित विचारों का कारण बनती है, जिसे जुनून कहा जाता है। यह चीजों को बार-बार करने, परेशान करने वाले विचारों से निपटने के लिए मजबूरी पैदा कर सकती है।

ओसीडी वाले कई लोगों को रोगाणु या संदूषण का डर होता है। यह चीजों के बारे में “गंदे” होने का जुनूनी विचार पैदा कर सकता है।

कुछ लोगों को सममित या सही क्रम में चीजों की आवश्यकता महसूस हो सकती है। खुद को या दूसरों को नुकसान पहुंचाने की चिंता भी आम है। कुछ मामलों में, ये अवांछित विचार हिंसक या परेशान करने वाले हो सकते हैं।

OCD symptoms | Obsessive-compulsive disorder (OCD) – Symptoms

मिशिगन विश्वविद्यालय के एक ओसीडी विशेषज्ञ डॉ केट फिजराल्ग (Dr Kate Fitzgerald, an OCD expert at the University of Michigan) बताती हैं, कि सनक या जुनून एक घुसपैठिया, परेशान करने वाला विचार है जो कि आमतौर पर ओसीडी वाले बच्चे या वयस्क को परेशान करता है, जिसका कोई मतलब नहीं होता है,  “लेकिन ये घुसपैठिया विचार उन्हें बहुत परेशान करते हैं।”

ओसीडी वाले लोग विचारों से अपनी चिंता को दूर करने के लिए कुछ संस्कार विकसित कर सकते हैं। इसमें अत्यधिक हैंडवाशिंग या सफाई, एक निश्चित क्रम में चीजों को व्यवस्थित करना, या अनिवार्य गणना जैसे व्यवहार शामिल हो सकते हैं।

हम में से कईयों में एक छोटा से “जुनून होता है।” तो चिंता का कारण कब पैदा होता है? फिजराल्ग कहते हैं सबसे बड़ा संकेत यह है कि अगर ये विचार या आदतें आपके दिन-प्रतिदिन के जीवन में कार्य करना कठिन बना रही हैं, तो यह चिंता का विषय है।

इसका मतलब परिवार, काम या स्कूल के साथ समस्याएं हो सकती हैं। विचारों या व्यवहारों पर प्रतिदिन एक घंटे से अधिक समय बिताना किसी समस्या का संकेत दे सकता है।

आपने किसी को यह कहते सुना होगा कि वे सफाई या आयोजन के बारे में “ओसीडी” हैं। लेकिन ओसीडी एक दुर्बल करने वाला विकार है।

फिजराल्ग ने कहा कि ओसीडी लोगों को पंगु बना सकता है। ऐसे लोग हैं जो काम नहीं कर सकते हैं, स्कूल नहीं जा सकते हैं, बीमारी के कारण काम नहीं कर सकते हैं।

लोगों में आमतौर पर ओसीडी के लक्षण बचपन या युवावस्था में विकसित होते हैं। अधिकांश लोगों का निदान 19 वर्ष की आयु तक किया जाता है, लेकिन ओसीडी की शुरुआत अक्सर आठ या नौ साल की उम्र में होती है।

वैज्ञानिकों को अभी तक यह पक्का नहीं पता है कि ओसीडी के क्या कारण हैं, लेकिन आनुवांशिकी के इसमें भूमिका निभाने की संभावना है। जिनके माता-पिता या भाई-बहन को ओसीडी है, उन लोगों में इस विकार के विकसित होने की आशंका अधिक होती है।

ओसीडी का इलाज | OCD treatment in hindi

ओसीडी का आमतौर पर अवसादरोधी दवा (antidepressant medication ) और मनोचिकित्सा (psychotherapy) के साथ इलाज किया जाता है। ओसीडी के लिए मनोचिकित्सा के सबसे आम रूपों में से एक है लोगों को अपने ट्रिगर्स के लिए उजागर करना। चिकित्सक तब लोगों को उनके बाध्यकारी विचारों या कार्यों को दूर करने में मदद करते हैं। थेरेपी के इस रूप को एक्सपोज़र और प्रतिक्रिया की रोकथाम (exposure and response prevention) कहा जाता है।

यद्यपि मनोचिकित्सा OCD पीड़ित कई लोगों की मदद करती है, लेकिन यह सभी के लिए प्रभावी नहीं है। फिजराल्ग और उनकी टीम मनोचिकित्सा के बारे में अधिक जानने की कोशिश कर रही है। उनके अध्ययन से पता चलता है कि मस्तिष्क गतिविधि के कुछ पैटर्न वाले लोगों को मनोचिकित्सा से लाभ होने की अधिक संभावना है। एक दिन, मस्तिष्क स्कैन या अन्य परीक्षण ओसीडी पीड़ित लोगों को सबसे अच्छे उपचार से मेल खाने में मदद कर सकते हैं।

नोट – यह समाचार किसी भी हालत में चिकित्सकीय परामर्श नहीं है। यह समाचारों में उपलब्ध सामग्री के अध्ययन के आधार पर जागरूकता के उद्देश्य से तैयार की गई अव्यावसायिक रिपोर्ट मात्र है। आप इस समाचार के आधार पर कोई निर्णय कतई नहीं ले सकते। स्वयं डॉक्टर न बनें किसी योग्य चिकित्सक से सलाह लें।) 

जानकारी का स्रोत – NIH News in Health

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

literature and culture

हिन्दी भाषा एवं साहित्य अध्ययन की समस्याएं

शिथिल हुए हैं हिंदी भाषा में शुद्ध-अशुद्ध के मानदंड बीसवीं सदी की दहलीज लांघ कर …

Leave a Reply