बलात्कारियों की शरण स्थली बना उत्तर प्रदेश : अजय कुमार लल्लू

Lallu Arrested

हत्या, बलात्कार और कोरोना से दहला उत्तर प्रदेश : अजय कुमार लल्लू

लखीमपुर, आजमगढ़, गोरखपुर, सीतापुर के बलात्कार की घटनाओं से दहला प्रदेश ; महिलाओं को सुरक्षा देने में पूरी तरह विफल है योगी सरकार: अजय कुमार लल्लू

Uttar Pradesh has become an asylum for rapists ; Murder, rape and corona have shaken UP: Ajay Kumar Lallu

State has been rocked by rape incidents in Lakhimpur, Azamgarh, Gorakhpur, Sitapur: Ajay Kumar Lallu

लखनऊ 26 अगस्त 2020।  उ.प्र. कांग्रेस कमेटी ने प्रदेश में बढ़ती महिला हिंसा पर गहरी चिन्ता व्यक्त की है। लखीमपुर खीरी में ऑनलाइन फार्म भरने गयी छात्रा के साथ बलात्कार और जघन्य हत्या की घटना ने प्रदेश की योगी सरकार के रामराज्य की कलई खोल कर रख दी है। प्रदेश की नाबालिग बच्चियों के साथ हो रहे गैंगरेप, हत्या और महिलाओं के साथ हो रही दरिन्दगी के खिलाफ योगी सरकार को कटघरे में खड़ा करते हुए प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने कहा कि उ.प्र. बलात्कारियों और अपराधियों का हब बन चुका है।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि महिलाओं के साथ हो रहे रोजाना हिंसा, बलात्कार, गैंग रेप, हत्या, उत्पीड़न की घटनाएं साफ इशारा करती हैं कि प्रदेश में कानून व्यवस्था नाम की कोई चीज नहीं बची है और प्रदेश बलात्कारियों का अड्डा बन चुका है।

महिला हिंसा के मामलों में उ.प्र. ने टॉप किया

उन्होंने कहा कि महिलाओं के साथ हो रही जघन्य हिंसा (Heinous violence happening to women) के मामले योगी सरकार में टॉप पर हैं। पिछले दिनों लखीमपुर में ही एक अबोध बच्ची के साथ दर्दनाक गैंगरेप और उसकी निर्मम हत्या हुई थी, जिसकी स्याही अभी सूख ही नहीं पायी थी कि लखीमपुर में फिर एक छात्रा के साथ हुए बलात्कार और हत्या की घटना ने प्रदेश को हिलाकर रख दिया है। पिछले दिनों आजमगढ़, गोरखपुर, सीतापुर और जालौन में हुई वीभत्स घटना में योगी सरकार ने पूरी तत्परता के साथ अपराधियों के साथ कार्यवाही नहीं की और उन घटनाओं से कोई सबक नहीं लिया जिसका दुष्परिणाम है कि लखीमपुर मंे एक छात्रा के साथ दर्दनाक हादसा हो गया। लगातार इस तरह की घटनाओं से यह साबित होता है कि महिलाओं को सुरक्षा देने में यह सरकार पूरी तरह विफल है।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि प्रदेश सरकार कोरोना महामारी की रोकथाम में पूरी तरह विफल साबित हो रही है। यही कारण है कि इस महामारी की भयावहता को देखते हुए मा0 उच्च न्यायालय को भी संज्ञान लेना पड़ा और प्रदेश के मुख्य सचिव को आड़े हाथों लेते हुए कोरोना के रोकथाम की कार्ययोजना तलब की है।

पाठकों सेअपील - “हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें
 

Leave a Reply