Home » Latest » मोदी सरकार की गलत नीतियों के कारण वैक्सीन की कमी – कांग्रेस

मोदी सरकार की गलत नीतियों के कारण वैक्सीन की कमी – कांग्रेस

भाजपाई सांसद मोदी से राज्य के लिये वैक्सीन मांगने की हिम्मत नहीं दिखा रहे

Vaccine shortage due to wrong policies of Modi government – Congress

रायपुर/10 जुलाई 2021। कांग्रेस ने कहा कि मोदी सरकार की अकर्मण्यता और अदूरदर्शी नीति के कारण छत्तीसगढ़ सहित पूरे देश में कोविड वैक्सीन की कमी हो गयी है।

प्रदेश कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता सुशील आनंद शुक्ला ने कहा कि मोदी सरकार राज्य को वैक्सीन उपलब्ध नहीं करवा रही है, इस कारण राज्य में टीकाकरण कार्यक्रम लगभग बंद होने के कगार पर पहुंच गया है। वैक्सीन के मामले में रोज-रोज बयान देने वाले भाजपा नेताओं की बोलती अब क्यों बंद है?

श्री शुक्ला ने कहा कि रमन सिंह, धरमलाल कौशिक, विष्णुदेव साय, बृजमोहन अग्रवाल केन्द्र से वैक्सीन आपूर्ति करने की मांग करने का साहस क्यों नहीं दिखा रहे? मुफ्त वैक्सीन के नाम पर मोदी सरकार की शान में कसीदे पढ़ने वाले भाजपा सांसद सुनील सोनी, सरोज पांडेय कहां मुंह छुपाये हुये हैं? राज्य की जनता वैक्सीन लगवाने के लिये परेशान है लेकिन भाजपाई सांसद मोदी से राज्य के लिये वैक्सीन मांगने की हिम्मत नहीं दिखा पा रहे।

कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि छत्तीसगढ़ एक दिन में 3 से 4 लाख लोगों को वैक्सीन लगाने की क्षमता रखता है। इसीलिये मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने राज्य के लिये जुलाई माह में 1 करोड़ वैक्सीन की मांग केन्द्र से किया है। राज्य की वैक्सीनेशन दर भी राष्ट्रीय औसत से बेहतर है लेकिन केन्द्र की अकर्मण्यता के कारण राज्य में वैक्सीन का संकट पैदा हो गया है। मोदी सरकार महामारी से निपटने की कार्ययोजना बनाने में इच्छाशक्ति नहीं दिखा पा रही है। देश की कुल वैक्सीन की निर्माण क्षमता कोवीशिल्ड और कोवैक्सीन मिलाकर प्रतिदिन 28 लाख डोज है।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी प्रतिदिन एक करोड़ लोगों को वैक्सीन लगाने का हवाई लक्ष्य रखते हैं, जब देश में वैक्सीन का निर्माण सिर्फ 28 लाख डोज का हो रहा है तब 1 करोड़ वैक्सीन कैसे लगेगा? यदि मोदी सरकार बेहतर सामंजस्य के साथ कार्ययोजना बनाती और देश की अन्य कंपनियों को वैक्सीन निर्माण की अनुमति देती तो देश में वैक्सीन का संकट पैदा नहीं होता। भारत सरकार से अनुमति मांग रही सभी कंपनियों को वैक्सीन निर्माण की अनुमति दे दी जाती है तो देश की वैक्सीन निर्माण की क्षमता एक करोड़ प्रतिदिन हो जायेगी और देश में टीकों का जो संकट और आपाधापी मची है वह नहीं होता।

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

political prisoner

“जय भीम” : जनसंघर्षों से ध्यान भटकाने का एक प्रयास

“जय भीम” फ़िल्म देख कर कम्युनिस्ट लोट-पोट क्यों हो रहे हैं? “जय भीम” फ़िल्म आजकल …

Leave a Reply