Home » Latest » 26 जनवरी को ग्रामीण गायों को गुड़ खिलाने वाले योगी के घर खुले पशुओं को बांधेंगे किसान
yogi adityanath

26 जनवरी को ग्रामीण गायों को गुड़ खिलाने वाले योगी के घर खुले पशुओं को बांधेंगे किसान

26 जनवरी को गांव में घूम रहे खुले पशुओं को ग्रामीण योगी आदित्यनाथ के घर बांधेंगे

VILLAGERS WILL BRING STRAY CATTLE TO YOGI ADITYANATH’S RESIDENCE ON 26 JANUARY

लखनऊ, 24 जनवरी, 2021. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ गायों को गुड़ खिलाते हुए अपना विज्ञापन छपवाते हैं। उन्हें गाय से बहुत प्रेम है। दूसरी तरफ जब से उनकी सरकार आई है गांवों में लोग खुले घूम रहे पशुओं से परेशान हैं। ये पशु फसलों को चर जाते हैं। सरकार की तरफ से जो गौशालाएं खुलवाई गई हैं उनमें पशुओं को ठीक से रखने की व्यवस्था नहीं है। वहां से भी पशु छूट कर खुले घूमने लगते हैं। सरकार के पास गायों को गांवों से गौशाला तक ले जाने का भी कोई इंतजाम नहीं। लेकिन अगर कोई गायों को गौशाला ले जाना चाहे तो हिन्दुत्ववादी गौ रक्षक तांडव करते हैं। भारतीय जनता पार्टी के राज में गौ रक्षक का मतलब है जो गाय पालते नहीं बल्कि गाय के नाम पर लोगों के साथ मार-पीट करते हैं।

इसलिए 26 जनवरी को गांव में घूम रहे खुले पशुओं को ग्रामीण योगी आदित्यनाथ के घर बांधेंगे।

सोशलिस्ट किसान सभा के अध्यक्ष अनिल मिश्र, सोशलिस्ट पार्टी (इण्डिया) के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष संदीप पाण्डेय व प्रवक्ता मुन्नालाल शुक्ल ने एक संयुक्त वक्तव्य में बताया कि 27 दिसम्बर, 2020, को हरदोई जिले के लालामऊ मवई गांव के दलित निवासी जब पशु चिकित्सा अधिकारी के कहने पर, पुलिस को सूचित कर, पंद्रह किलोमीटर दूर पैदल चलकर पशुओं को पवांया भगवंतापुर गांव ले गए और वहां स्थानीय ग्रामीणों के गौशाला में इन पशुओं को रखने से इंकार करने पर पशुओं के साथ वापस लौट रहे थे तो लोहंगापुर में अपने आप को भाजपा के पदाधिकारी बताने वाले ज्ञानेन्द्र सिंह ने दलितों के साथ मार पीट की। पुलिस मुकदमा दर्ज करने को तैयार नहीं।

अतः सोशलिस्ट किसान सभा के तत्वावधान में जिस दिन राष्ट्रीय स्तर पर चल रहे किसान आंदोलन के आह्वान पर तीन किसान विरोधी कानूनों को रद्द करवाने के लिए किसान दिल्ली में अपने ट्रैक्टरों के साथ प्रवेश करेंगे, उत्तर प्रदेश के ग्रामीण जो खुले घूम रहे पशुओं से परेशान हैं इन पशुओं को लेकर 25 जनवरी, 2021 को उन्नाव जिले के फतेहपुर चौरासी विकास खण्ड से निकलेंगे और 26 जनवरी 2021 को मुख्य मंत्री आदित्यनाथ के निवास पहुंचेंगे ताकि वे इनके खिलाने-पिलाने की व्यवस्था करें।

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

noor

न झुकने और न रुकने की बात ‘नूर’ में

फ़िल्म रिव्यू – न झुकने और न रुकने की बात ‘नूर‘ में फ़िल्म – नूर …

Leave a Reply