भाजपा और उसकी केंद्र सरकार के इशारे पर जेएनयू छात्रों पर हिंसक हमला निंदनीय : माले

Violent attack on JNU students at the behest of BJP and its central government is condemnable: CPI (ML)

लखनऊ, 5 जनवरी। भाकपा (माले) की राज्य इकाई ने जेएनयू छात्रसंघ की अध्यक्ष समेत छात्रों व शिक्षकों पर रविवार रात किये गये हिंसक हमले की कड़ी निंदा की है। पार्टी ने कहा है कि हमलावरों को पुलिस और विवि प्रसाशन का परोक्ष संरक्षण प्राप्त था, तभी इतने बड़े पैमाने पर संगठित हमला हुआ जिसमें छात्रसंघ की अध्यक्ष का सर फटा और दर्जनों छात्र व शिक्षण बुरी तरह घायल हुए हैं।

पार्टी राज्य सचिव सुधाकर यादव ने कहा कि चूंकि हमलावर गुंडे एबीवीपी के नेतृत्व में आये थे और केंद्रीय गृह मंत्रालय से संचालित दिल्ली पुलिस हमले के समय मूकदर्शक बनी रही, लिहाजा इस मिलीभगत की निष्पक्ष जांच होनी चाहिए और हमलावरों को अविलंब गिरफ्तार किया जाना चाहिए।

उन्होंने कहा कि हमला भाजपा और उसकी केंद्र सरकार के इशारे पर हुआ है। जेएनयू में वैचारिक-राजनीतिक संघर्ष में नहीं टिकने के कारण संघ व भाजपा शारीरिक हमले करवा रही है। इसके लिए सबसे पहले देश के सर्वोत्कृष्ट विवि को चुना गया। यह फासीवाद का नंगा नाच है। उन्होंने वाम, लोकतांत्रिक शक्तियों व शांतिप्रिय नागरिकों से इस फासीवादी हमले के खिलाफ एकजुट होकर आगे आने की अपील की।

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Leave a Comment
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations