Home » हस्तक्षेप » आपकी नज़र » यूक्रेन में युद्ध और शांति : पुतिन तानाशाह या हीरो?
why are there wars in this world

यूक्रेन में युद्ध और शांति : पुतिन तानाशाह या हीरो?

War and Peace in Ukraine: Putin Dictator or Hero?

यूक्रेन पर रूसी आक्रमण (Russian invasion of Ukraine) के परिणामस्वरूप व्लादिमीर पुतिन (Vladimir Putin) और उनके शासन के खिलाफ वैश्विक आक्रोश फैल गया है। रूस के खिलाफ विरोध और प्रतिबंध हैं। संयुक्त राष्ट्र ने ऐसे प्रस्ताव पारित किए हैं जिनमें चीन, भारत, पाकिस्तान सहित कई राष्ट्रों ने परहेज किया है और पश्चिमी के इशारों पर चलने से इनकार कर दिया है। संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार समिति (United Nations Human Rights Committee) रूसी युद्ध अपराध के खिलाफ जांच आयोग (Commission of Inquiry against Russian War Crimes) का गठन कर रही है।

शरणार्थियों पर संयुक्त राष्ट्र उच्चायोग ने कहा है कि 12 लाख से अधिक लोगों ने यूक्रेन छोड़ दिया है और पोलैंड, मोल्दोवा, स्लोवेनिया और चेक गणराज्य जैसे देशों में शरण ली है। दुनिया की विभिन्न राजधानियों में बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन देखे गए हैं।

संयुक्त राज्य अमेरिका और यूनाइटेड किंगडम ने रूस के उद्योगपतियों की संपत्तियों और संपत्तियों को जब्त करने का आदेश दिया है। विभिन्न खेल महासंघों ने रूसी खिलाड़ियों के विभिन्न अंतरराष्ट्रीय आयोजनों में भाग लेने पर प्रतिबंध लगा दिया है।

हताहतों के संदर्भ में अलग-अलग जानकारियां आ रही हैं और यह निश्चित है कि यह हजारों में होगा क्योंकि वास्तविक तस्वीर युद्ध समाप्त होने के बाद ही सामने आने वाली है।

यूक्रेन का कहना है कि अब तक पांच हजार से ज्यादा रूसी सैनिक मारे जा चुके हैं। रूस से पश्चिमी देशों की बड़ी कंपनियां पीछे हट गई हैं। पश्चिमी दुनिया ने रूस को अंतरराष्ट्रीय बैंकिंग की स्विफ्ट प्रणाली से प्रतिबंधित करने का भी फैसला किया है जो दुनिया भर में 11000 से अधिक बैंकों को जोड़ता है।

फेसबुक, गूगल और अन्य बड़ी कंपनियों ने रूसी संस्करण पर प्रतिबंध लगा दिया है। अधिकांश यूरोपीय देशों ने रूसी एयरलाइनों पर उनके ऊपर उड़ान भरने पर प्रतिबंध लगा दिया है।

क्या व्लादिमीर पुतिन तानाशाह हैं? (Is Vladimir Putin a dictator?)

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बिडेन ने व्लादिमीर पुतिन को तानाशाह कहा और कहा कि उनके हर अपराध की गिनती की जाएगी और पश्चिमी दुनिया पुतिन को यूक्रेन पर युद्ध अपराध के लिए बेहिसाब नहीं जाने देगी।

‘क्रोध’ इतना अधिक है कि रूसी टीवी को भी पश्चिमी दुनिया से रिपोर्टिंग करने से प्रतिबंधित कर दिया गया है और इसका प्रसारण अब पश्चिमी देशों में प्रतिबंधित है।

दूसरी ओर, यूक्रेन को अमेरिकियों या यूरोपीय लोगों की ‘प्रत्यक्ष’ भागीदारी को छोड़कर हर तरह की मदद मिल रही है। राष्ट्रपति वलोडिमिर ज़ेलेंस्की का महिमामंडन (Glorification of President Volodymyr Zelensky) भी जारी है और पश्चिम देशों में उन्हें एक मसीहा के तौर पर देखा जा रहा है जिसने नाटो को एक कर दिया है और रूस के विरुद्ध व्यापक जनमत बनाने मे मदद की है। उनके ‘नेतृत्व’ गुणों की प्रशंसा की जाती है जो ‘प्रेरक’ हैं और अमेरिकी राष्ट्रपति ने अपने ‘स्टेट ऑफ द यूनियन’ संबोधन पर वास्तव में यूक्रेन के राजदूत को कांग्रेस में आमंत्रित किया और कहा कि अमेरिकी जनता यूक्रेन के साथ है।

नाटो देशों को रूस की सीधी चुनौती (Russia’s direct challenge to NATO countries)

हालांकि इसमें कोई संदेह नहीं है कि रूसियों ने अंतरराष्ट्रीय कानून का उल्लंघन किया है और उन्हें अपनी कार्रवाई के लिए जवाबदेह बनाया जाना चाहिए लेकिन यह केवल हमारी इच्छा है और हम यह भी जानते हैं कि यह मात्र यूक्रेन और रूस के मध्य का झगड़ा नहीं है अपितु रूस की नाटो देशों को सीधी चुनौती है। रूस और नाटो के मध्य के मतभेद द्वितीय विश्वयुद्ध के बाद से ही है जब दुनिया के चलाने के लिए यूरोप और अमेरिका की चौधराहट के चलते सोवियत संघ ने गरीब देशों की और से जिम्मेवारी ली। उस समय विश्व में दो धड़े हो गए और भारत जैसे देश ने गुटनिरपेक्ष आंदोलन की नींव रखी, लेकिन बाद में ये भी आरोप लगे कि ये गुट निरपेक्ष कुछ नहीं अपितु सोवियत संघ समर्थक ही देश हैं।

1991 में सोवियत संघ के विघटन के बाद ये प्रश्न भी खड़ा हुआ कि छोटे देश कैसे ‘बड़ी शक्तियों’ को जवाबदेह बनाएंगे क्योंकि तब दुनिया पूरी तरह से यूनिपोलर हो गई और अमेरिका और नाटो देश अपनी मर्जी से दुनिया मे ‘कानून के राज’ की परिकल्पना कर रहे थे। लोकतंत्र बचाने के नाम पर उन्होंने इराक, लीबिया और अफगानिस्तान जैसे देशों को पूरी तरह से बर्बाद कर दिया।

सवाल ये है कि अफगानिस्तान जाकर उस देश को अधर में छोड़कर जाने वालों से कितनी जवाबदेही मांगी गई है?

क्या हमने नहीं देखा कि कैसे अमेरिकियों ने अचानक खुद को लाने के लिए अफगानिस्तान छोड़ दिया और ‘अफगान सेना’, जिसे उसके बलों ने भारी निवेश के साथ प्रशिक्षित किया था, बिना एक गोली चलाए आत्मसमर्पण कर दिया।

अब दिलचस्प चीजें देखने को मिल रही हैं।

इज़राइल ने रूस को सेंसर करने से इनकार कर दिया है और उसके प्रधान मंत्री अब रूस और यूक्रेन के बीच ‘मध्यस्थता’ कर रहे हैं।

हैरानी की बात यह है कि इसराइल ने कभी भी अन्तराष्ट्रीय कानूनों का पालन नहीं किया, लेकिन पश्चिम ने कभी भी उनके खिलाफ न प्रतिबंध लगाए और न ही उनकी कोई निंदा की जैसा कि आज रूस सामना कर रहा है।

बेशक, अमेरिकी ‘नियम आधारित’ ‘वैश्विक व्यवस्था’ के ‘स्वामी’ हैं, जहां वे अपनी मर्जी से किसी को भी ध्वस्त कर सकते हैं और यूरोपीय देश बस उस आदेश की ‘रक्षा’ करने में शामिल हो गए, जो वास्तव में उन देशों के असहाय लोगों की रक्षा नहीं करता है, जिन पर उन्होंने बमबारी की थी।

ये केवल पश्चिम के शुद्ध व्यावसायिक हितों को सुरक्षित करने की लड़ाई है।

पश्चिम की ‘नियम आधारित’ व्यवस्था इतनी शक्तिशाली है कि नाटो ने (मार्च -जून 1999) सर्बिया पर बमबारी की, जो यूगोस्लाविया का हिस्सा था और कोसोवो में संयुक्त राष्ट्र की ‘शांति सेना’ को रखा था। सर्बिया यूगोस्लाविया से अलग हो गया। नाटो की सर्बिया में बिजली संयंत्र पर बमबारी से बिजली व्यवस्था चरमरा गई। नाटो का महान ‘नियम आधारित’ आदेश इराक, लीबिया, सीरिया और अफगानिस्तान के खंडहरों में भी पाया जा सकता है।

यूक्रेन में रूसी हस्तक्षेप (Russian intervention in Ukraine) ने ताइवान के लिए एक कठिन स्थिति पैदा कर दी है जो चीनी आक्रमण का सामना कर सकता है, क्योंकि उसने कभी भी राज्य की स्वायत्तता को स्वीकार नहीं किया है।

सवाल यह है कि हम शक्तिशाली राज्यों को उनकी पसंद पर अंतरराष्ट्रीय सीमा का उल्लंघन करने से कैसे रोकते हैं ? क्या सैन्य शक्ति के ‘प्रतिबंधों’ और उन्हें अलग-थलग रखने से शांति संभव है ?

निस्संदेह पश्चिमी दुनिया एक नियम-आधारित व्यवस्था है जहां संस्थाएं मजबूत और काफी स्वायत्त हैं, भले ही नस्लीय पूर्वाग्रह अभी भी ‘उदारवाद’ के लंबे दावों के बावजूद मौजूद हैं, लेकिन निश्चित रूप से अधिकारों और स्वतंत्रता के मामले में यह रूस, चीन, ईरान, सऊदी अरब जहां लोग ‘ताकतवर’ राज्य की छाया में रहते हैं सहित अन्य देशों से कहीं बेहतर है।

पश्चिमी दुनिया के हाथों में आर्थिक प्रतिबंध सबसे क्रूर हथियार हैं जो देश के आम नागरिकों को प्रभावित करते हैं। यदि इन प्रतिबंधों के माध्यम से व्लादिमीर पुतिन को अलग-थलग करने का लक्ष्य है तो वे गलत हैं क्योंकि समस्याओं का सामना नेताओं या कुलीन वर्गों को नहीं बल्कि आम लोगों को करना होगा।

यद्यपि अधिकांश देशों ने रूस के खिलाफ प्रस्ताव का समर्थन किया, फिर भी यदि आप अनुपस्थित और विरोधियों की संख्या देखते हैं तो आप महसूस करेंगे कि आकार और जनसंख्या के मामले में शायद यूरोप और अमेरिका को छोड़कर, अधिकांश अन्य देशों ने अपनी स्थिति बना ली है स्पष्ट है कि वे अपने ‘राष्ट्रीय’ हितों के अनुसार कार्य करेंगे और रूस के साथ अपने संबंधों को खतरे में नहीं डालेंगे।

यह भी स्पष्ट है कि जब देश और लोग यूक्रेन और उसकी स्वायत्तता का समर्थन कर सकते हैं, तब भी वे ‘नियम आधारित’ प्रणाली में पश्चिमी पाखंड को स्पष्ट रूप से देखते हैं जब सीरिया, फिलिस्तीन और यमन पर उनके सहयोगियों द्वारा दैनिक आधार पर बमबारी की जा रही है। फ़िलिस्तीनियों को उनके गृह राज्य और शांति और सम्मान से जीने के अधिकार से वंचित करने में पश्चिम के देशों को ‘कोई शर्म की बात नहीं लगती।

अभी अफ्रीकी देशों के छात्रों के खिलाफ नस्लीय भेदभाव की खबरें हैं जो रूसी आक्रमण के बीच यूक्रेन छोड़ना चाहते थे। बीबीसी, सीएनएन और अन्य ‘अंतर्राष्ट्रीय’ नेटवर्क पर बताई और समझाई जा रही कहानियाँ स्पष्ट रूप से उनके नस्लीय पूर्वाग्रहों को दर्शाती हैं। जिन्हें अश्वेतों, मुसलमानों, एशियाई लोगों को ‘शरणार्थी’ के रूप में देखने की आदत थी, उन्हें ‘स्वस्थ’, ‘गोरे’, ‘यूरोपीय’ शरणार्थी बनने के लिए मजबूर देखकर दर्द होता है।

बेशक, यह दर्दनाक और परेशान करने वाला है लेकिन उनकी जातीयता के आधार पर भेदभाव क्यों किया जाता है? हमें अमेरिका के वर्ल्ड ट्रेड सेंटर पर हमले के तुरंत बाद राष्ट्रपति जॉर्ज डब्ल्यू बुश द्वारा दिए गए इस्लामिक फासीवाद वाले बयान को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए।

राष्ट्रपति पुतिन ने रूसी आबादी के साथ भेदभाव करने वाले नव नाजियों शब्द का भी इस्तेमाल किया है। परेशान करने वाली बात यह है कि हर वैश्विक शक्ति के पास अपनी कार्रवाई का औचित्य है और रूसियों के पास वही तर्क है जो अमेरिका ने हिरोशिमा और नागासाकी पर बमबारी की थी, जैसा कि नेल्सन मंडेला ने कहा था, कि हालांकि अमेरिका ने जापान पर बमबारी की लेकिन इन बमों का मुख्य उद्देश्य यह चेतावनी देना था सोवियत संघ किसी भी ‘दुर्घटना’ से बाज आने के लिए। ठीक उसी तरह, यूक्रेन अब पश्चिमी दुनिया के लिए रूस को अपमानित करने का हॉटस्पॉट बन गया है।

हमें बताया जा रहा है कि व्लादिमिर पुतिन एक ‘निरंकुश’ शासक है जो अपने साथियों और कुलीन वर्गों से घिरा हुआ है। कोई नहीं जानता कि पूंजीवादी दुनिया में ‘कुलीन वर्ग’ हैं या नहीं? कौन हैं वो ‘संत’ जो ‘वैश्विक दक्षिण’ से सस्ते श्रम का शोषण कर अश्लील संपत्ति पैदा कर रहे हैं।

भले ही व्लादिमीर पुतिन को दंडित किया जाए लेकिन वह भी ‘अंतर्राष्ट्रीय कानून’ के अनुसार होना चाहिए और ऐसा करने के लिए टीवी चैनलों को कंगारू अदालत शुरू करने के लिए ‘अधिकृत’ कैसे किया जा सकता है?

यदि संकट के लिए पूरी तरह से पुतिन ही जिम्मेदार हैं तो आप रूसी लोगों को दंडित क्यों कर रहे हैं, जो आपके अपने ‘स्वीकृति’ के अनुसार पुतिन का समर्थन नहीं करते हैं और उनके खिलाफ ‘विद्रोह’ करना चाहिए।

पश्चिमी दुनिया रूस से कैसे अलग है जब आप आरटीवी को ‘सहन’ करने में सक्षम नहीं हैं और उन सभी पोर्टलों और साइटों पर प्रतिबंध लगा रहे हैं जिन्हें रूसी ‘प्रचार’ कहा जा सकता है। हम सभी जानते हैं कि कोई भी प्रचार में पश्चिमी दुनिया की बराबरी नहीं कर सकता है, लेकिन वे इसे ‘प्रचार’ नहीं बल्कि ‘शोध’ और ‘विश्लेषण’ बतला देते हैं।

आतंक के खिलाफ युद्ध के दौरान, मुस्लिम पश्चिमी दुनिया में हिंसा और घृणा का मुख्य लक्ष्य बन गए और इसने उनकी अज्ञानता और उनके प्रति पूर्वाग्रहों को दिखाया। उनके अधिकारों का उल्लंघन किया गया और उन्हें ‘आतंकवादी’ कहा गया। ऐसा लगता है कि पश्चिमी दुनिया में रूस के खिलाफ बढ़ते प्रतिबंधों और अभियान के साथ, हम रूसी फोबिया से ग्रस्त हो रहे हैं और रूसी प्रवासियों के खिलाफ नफरत देख सकते हैं।

पुतिन के युद्ध अपराध के लिए अनिवासी रूसी कैसे जिम्मेदार हैं?

किसी देश के राजनीतिक या सैन्य नेतृत्व द्वारा किए गए अपराध के लिए आप ‘व्यक्तिगत’ नागरिकों की संपत्ति कैसे जब्त कर सकते हैं? क्या यह नियम आधारित है? यदि यह एक आदर्श और वास्तव में नियम आधारित हो जाता है, तो संयुक्त राज्य अमेरिका में यहूदी मूल के सभी बड़े बैंकर फिलिस्तीन में इजरायल के युद्ध अपराधों के लिए अपनी संपत्ति खो देंगे, जो रूसी अपराधों की तुलना में कहीं अधिक है और निश्चित रूप से उन अमेरिकियों को कौन दंडित करेंगे जो लोकतंत्र की रक्षा के नाम पर ऐसे देशों को तबाह कर दिए जो अमेरिकी ताकत के समक्ष कही नहीं टिक सकते थे।

हाँ, औपनिवेशिक शक्तियों ने हमारे देशों में प्रवेश हमारे बुलावे या लोकतंत्र लाने के लिए नहीं बल्कि हमारे संसाधनों का दोहन करने के और हमारे श्रम का शोषण करने के लिए किया।

रूस के यूक्रेन पर आक्रमण के बाद एक इतालवी विश्वविद्यालय ने प्रसिद्ध रूसी उपन्यासकार, लेखक फ्योडोर दोस्तोवस्की के साहित्य को वापस लेने का फैसला किया। अब कोई ये पूछे कि यूक्रेन में दोस्तोवस्की और पुतिन के दुस्साहसवाद के बीच क्या संबंध है ?

फयोडोर का जन्म 11 नवंबर , 1821 को हुआ था और उन्हें 1849 में मौत की सजा सुनाई गई थी। वह अपने सोचे-समझे काम के लिए जाने जाते थे। ‘जो आदमी खुद से झूठ बोलता है और अपने झूठ को सुनता है, वह इस हद तक पहुंच जाता है कि वह अपने भीतर या अपने आस-पास के सच को अलग नहीं कर सकता और इसलिए अपने और दूसरों के लिए सभी सम्मान खो देता है। और बिना किसी सम्मान के वह प्यार करना बंद कर देता है। अपने प्रसिद्ध उपन्यास ‘अपराध और सजा’ में, वे कहते हैं, “एक बड़ी बुद्धि और गहरे दिल के लिए दर्द और पीड़ा हमेशा अनिवार्य होती है। मुझे लगता है कि वास्तव में महापुरुषों को पृथ्वी पर बहुत दुख होना चाहिए’।

दोस्तोवस्की का दृढ़ विश्वास ‘सरकार विरोधी’ ‘गतिविधियों’ में उनकी ‘कथित’ भागीदारी से आया था। उनकी मौत की सजा को बदल दिया गया और उन्हें सर्बिया के श्रम शिविर में भेज दिया गया और 1854 में रिहा कर दिया गया।

अब, कोई भी जो फ्योडोर दोस्तोवस्की के अत्यंत सार्थक और विचारोत्तेजक जीवन और कार्य को पढ़ेगा और उसका आनंद लेगा, वह केवल यह सवाल पूछेगा कि पश्चिमी दुनिया उन महान लेखकों के लिए अपने दरवाजे क्यों बंद करना चाहती है क्योंकि वे रूसी थे?

अपने समय की सरकारों के अत्याचारों के खिलाफ लड़ने वाले एक लेखक को यूक्रेन पर पुतिन के हमले के लिए कैसे जिम्मेदार ठहराया जा सकता है। हालांकि इटालियन यूनिवर्सिटी ने अपना फैसला वापस ले लिया लेकिन इससे पता चलता है कि चीजें किस दिशा में बढ़ रही हैं।

जिस तरह से पश्चिमी दुनिया रूस के खिलाफ उग्र हो गई है, अंततः उनके बीच एक बड़ी दीवार बना सकती है। जितना अधिक आप एक शक्ति को दीवार पर धकेलेंगे और उसे अलग-थलग कर देंगे, दुनिया के लिए उतना ही बड़ा खतरा होगा। पश्चिमी दुनिया इस समय विभिन्न विरोधियों से जूझ रही है। रूस के अलावा चीन है और फिर इस्लामिक दुनिया भी है। दुनिया में शांति लाने का सबसे अच्छा दांव है बैठकर संस्थागत तंत्र को मजबूत करना।

आर्थिक प्रतिबंध गरीब नागरिक को नुकसान पहुंचाएंगे, लेकिन यह अन्य देशों को भी एक-दूसरे के साथ व्यवहार करने का एक वैकल्पिक मॉडल विकसित करने के बारे में सोचने के लिए मजबूर करेगा। क्यूबा, ईरान, वेनेजुएला, रूस जैसे कई देश पहले से ही अपनी-अपनी मुद्राओं में एक-दूसरे के साथ लेन-देन कर रहे हैं। चाहे वह हमारा संचार नेटवर्क हो या वित्तीय प्रणाली, प्रत्येक देश को अपना मॉडल शुरू करने के लिए मजबूर किया जाएगा और इसका परिणाम केवल ‘राष्ट्रवादी’ युद्ध का रोना होगा।

पश्चिम को समझना चाहिए कि हर कोई उनके अनुसार नहीं सोच रहा है। यूक्रेन ने सीरिया और ईराक में अपनी सेना भेजी। इसने भारत के परमाणु विस्फोट की निंदा की और जम्मू कश्मीर पर भारतीय स्थिति का वास्तव में कभी समर्थन नहीं किया। दूसरी ओर रूस, भारत का समय-परीक्षित मित्र रहा है और रूस पर भारत की स्थिति उसकी अपनी सामरिक जरूरतों और हितों के अनुसार थी। स्थापना में कई लोग वास्तव में रूस के रुख का समर्थन करते हैं और भारत में बाज़ वही शक्तिशाली प्रतिक्रिया चाहते हैं जो खतरनाक है क्योंकि भारत रूस नहीं है और चीन के रूप में शक्तिशाली पड़ोसी है लेकिन हर देश अब अपने लिए सोचेगा।

हमने पश्चिमी पाखंड को इस युद्ध के दौरान नहीं बल्कि कोविड संकट के दौरान देखा है जब कनाडा और ब्रिटेन जैसे देश ने वैक्सीन जमा कर दी थी और गरीब देशों को उनके उचित हिस्से से वंचित कर दिया था। अफ्रीका और लैटिन अमेरिका के कई बड़े देशों के पास वास्तव में रूसी वैक्सीन थी। आज वैश्विक व्यवस्था की नाजुकता देखी जा रही है और इसे समझने की जरूरत है। जब आपकी सरकार आपके अधिकारों के लिए खड़ी हो और वह वास्तव में पश्चिमी दुनिया से मेल नहीं खाती तो आपको प्रतिबंधों के लिए तैयार रहना चाहिए। सरकार को कुछ नहीं होता, लेकिन मान लीजिए कि भारत में गूगल या इन सभी अंतरराष्ट्रीय निगमों के बंद होने से बहुत बड़ा नुकसान होगा। पश्चिमी दुनिया के प्रतिबंधों और दृष्टिकोण ने हमें केवल यह समझाया है कि हम एक असमान दुनिया में हैं और अगर वे आपसे ‘नाराज’ हैं तो वे चीजों को बंद कर सकते हैं और आपके लेनदेन और संचार को बंद कर सकते हैं। पहले से ही, कोविड संकट ने हमें दिखाया है कि हमारी अपनी सरकारें जब भी उन्हें खतरा महसूस होता है, तो वे हमें इंटरनेट के हमारे अधिकार से वंचित कर सकती हैं। ये खतरनाक हैं और सभी से गंभीर आत्मनिरीक्षण की जरूरत है। हमें अंतरराष्ट्रीय स्तर पर जिम्मेदार तंत्र की आवश्यकता है जहां आम व्यक्ति को दंडित न किया जाए और जहां हमारे लेनदेन और संचार सुरक्षित हों। यदि हम व्यक्ति हैं और विश्व स्तर पर व्यक्ति को सर्वोच्च माना जाता है तो किसी देश की संस्थाओं के गलत होने के लिए व्यक्तियों को कैसे जिम्मेदार ठहराया जा सकता है चाहे रूस हो या कोई अन्य देश।

पश्चिमी लोकतंत्र निस्संदेह उदार हैं और एक आशा भी प्रदान करते हैं, लेकिन उन्हें और अधिक काम करने की आवश्यकता है। अभी, रूस के खिलाफ प्रतिबंध इसे दीवार पर और आगे बढ़ाएंगे। यह पुतिन को नायक बनने में मदद कर सकता है क्योंकि हर कोई महसूस करेगा कि पश्चिमी दुनिया का हित एक कमजोर और अत्यंत नम्र रूस में है जैसा कि 1991 के बाद हुआ था जब गोर्बाचेव और बोरिस येल्स्टिन उस देश के शीर्ष पर थे।

पुतिन एक पुनरुत्थानवादी रूस का निर्माण करने का प्रयास कर रहे हैं और शायद कोई भी सरकार चाहे वह लोकतांत्रिक हो या सैन्य, विभाजित रूस चाहेगी। अंतत: पश्चिमी दुनिया को उनके साथ बैठना होगा और रूसी सरोकार को ध्यान में रखते हुए बातचीत के लिए अनुकूल माहौल बनाना होगा। यदि ऐसा नहीं होता है तो यूक्रेन इसकी कीमत चुकाएगा क्योंकि इन तथाकथित प्रतिबंधों के अलावा युद्ध को रोकने के लिए कुछ भी नहीं किया जा रहा है क्योंकि जब तक वे कुछ प्रभाव दिखाएंगे तब तक यूक्रेन पूरी तरह से तबाह हो जाएगा। इसे फिर से बनाने में दशकों लगेंगे और यह आघात जितना हम सोच सकते हैं उससे कहीं अधिक गहरा होगा।

रूस की हार या पीछे हटने के लिए मजबूर होने के बाद पश्चिम इसे ‘पुनर्निर्माण’ के बारे में सोच सकता है, लेकिन उस समय तक नुकसान बहुत बड़ा होगा और दोष अकेले रूस पर नहीं डाला जा सकता है और पश्चिमी उदार दुनिया को भी यूक्रेन में विनाश के लिए जिम्मेदार ठहराया जाएगा जो समय पर इसकी रक्षा करने असमर्थ रहे और जिन्होंने युद्ध रोकने के कोई ईमानदार राजनयिक प्रयास नहीं किए।

शांति निर्माण महत्वपूर्ण है लेकिन अहंकार को बाहर रखे बिना और रूस की सुरक्षा चिंताओं और यूक्रेन की संप्रभुता को संबोधित किए बिना यह संभव नहीं है।

क्या यूक्रेन रूस और पश्चिम के बीच शांति क्षेत्र बन सकता है?

ऐसा संभव है लेकिन उसके लिए दुनिया को समझदार और अपने व्यावसायिक हितों से आगे सोचने वाले नेतृत्व की आवश्यकता है। अब समय बहुत कम है और युद्ध का थोड़ा भी बढ़ना सम्पूर्ण दुनिया के लिए हानिकारक होगा, इसलिए सभी पक्षों को बिना किसी देर किए बातचीत की मेज पर लाने के लिए सभी प्रयास किए जाने चाहिए। अब इस वहशीपन को रोकने का समय है नहीं तो न्यूक्लियर हथियारों की मार से दुनिया पूरी तरह से तबाह हो जाएगी। कोविड की मार से जूझ रहे विश्व के लिए इस समय आपसी सहयोग की जरूरत है और जितनी जल्दी ये कार्यवाही होगी उतना अच्छा होगा लेकिन ये हकीकत है के रूस को अलग-थलग करने के पश्चिमी प्रयास सफल नहीं होंगे और वे खतरनाक भी हो सकते हैं, इसलिए बातचीत ही अंतिम रास्ता है।

विद्या भूषण रावत

हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें. ट्विटर पर फॉलो करें. वाट्सएप पर संदेश पाएं. हस्तक्षेप की आर्थिक मदद करें

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

हमारे बारे में Guest writer

Check Also

Police lathi-charge on Rahul Gandhi convoy

कांग्रेस चिंतन शिविर : राहुल राजनीतिक समझदारी से एक बार फिर दूर दिखे

कांग्रेस चिंतन शिविर और राहुल गांधी का संकट क्या देश की सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.