इन मज़दूरों का जुर्म था क्या ?

Ghar Se Door Bharat Ka Majdoor

What was the crime of these workers?

(मोहम्मद खुर्शीद अकरम सोज़)

——————————–

 

रेल की पटरी पर

मज़दूरों की बिखरी लाशें

इधर-उधर इन लाशों के,

बिखरी है कुछ सूखी रोटी

सुनो ग़ौर से कुछ कहती है !

……………………………..

इन मज़दूरों का जुर्म था क्या ?

जो केवल रोज़ी-रोटी की ख़ातिर

अपने गाँव को छोड़ कर

बड़े शहरों में आये थे

और अपना ख़ून-पसीना देकर

इस रोटी का क़र्ज़ चुकाया था

अपनी मेहनत के दम पर

इन बे-कस , बेचारों ने

कितनों के ख़ज़ाने भर डाले

कितनी सड़कें ,कितने पुल,

कितनी फ़ैक्टरियों का निर्माण किया

अपनी मेहनत से इन मजदूरों ने

कितनों को धनवान किया

……………………………..

लेकिन जब इन शहरों में

कोविड की महामारी छाई

पूंजीपति धनवानों ने

और इनकी सरकारों ने

योगदान को भूल कर इनके

जीना इनका तंग किया

जीविका इनकी बंद किया

लॉक-डाउन के नाम पे इनको

बिन दाना, बिन पानी के ही

क़ैद में ऐसे डाल दिया कि

घर जाना दुश्वार हुआ

गर कोई हिम्मत करके

इनकी क़ैद से चाहे निकलना

तो, इन पर लाठी-डंडों से प्रहार किया

अंग्रेज़ों जैसा अत्याचार किया !

……………………………

फिर भी जैसे-तैसे इन धनवानों की

क़ैद से बचकर कुछ मज़दूर

रेल की पटरी पर जा पहुँचे

और निकल पड़े इस पटरी से

अपने-अपने गाँव की ओर !

दिल में बस यह आस लिये !

एक नया विश्वास लिये !

अब जीना हो या मरना हो !

बस गाँव में अपने रहना हो !

………………………………..

यूँ अपनी धुन में चलते-चलते

कब थकन ने इनको जकड़ लिया

नींद ने ऐसे पकड़ लिया

कि रेल की पटरी पर ही  थक कर

आँखें बंद कर सो गये

गाँव के सपनों में खो गये

फिर ……………………..!!!

नींद खुली न सपना टूटा

धड़-धड़ करती मौत बनकर

आ पहुंची एक रेल गाड़ी , इनके  और

इनके सपनों के  ऊपर से गुज़र गई

…………………………………………

 

नाम :- मोहम्मद खुर्शीद अकरम तख़ल्लुस : सोज़ / सोज़ मुशीरी वल्दियत :- मौलाना अब्दुस्समद ( मरहूम ) जन्म तिथि :- 01/03/1965 जन्म स्थान : - बिहार शरीफ़, ज़िला :- नालंदा (बिहार) शिक्षा :- 1) बी.ए.             2) डिप. इन माइनिंग इंजीनियरिंग     उस्ताद-ए-सुख़न :-( स्व) हज़रत मुशीर झिन्झानवी देहलवी काव्य संकलन : - सोज़-ए-दिल सम्मान :- 1. आदर्श कवि सम्मान, और साहित्य श्री सम्मान संप्रति :- कोल इंडिया की वेस्टर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड में कार्यरत संपर्क :- बी-22, कैलाश नगर, पोस्ट :- साखरा(कोलगाँव), तहसील :- वणी ज़िला :- यवतमाल , पिन:- 445307 (महाराष्ट्र)
मोहम्मद खुर्शीद अकरम

अब रेल की पटरी पर

इन मज़दूरों की बिखरी लाशें

इधर-उधर इन लाशों के,

बिखरी हुई कुछ सूखी रोटी

सुनो ग़ौर से कुछ कहती हैं !

……………………………..

इन मज़दूरों का जुर्म था क्या ?

इन मज़दूरों का जुर्म था क्या ?

पाठकों सेअपील - “हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें