एक मुख्यमंत्री ने पूछा “करोना काटता कैसे है?”

Novel Coronavirus SARS-CoV-2 Colorized scanning electron micrograph of a cell showing morphological signs of apoptosis, infected with SARS-COV-2 virus particles (green), isolated from a patient sample. Image captured at the NIAID Integrated Research Facility (IRF) in Fort Detrick, Maryland.

करोना काटता कैसे है?

यह प्रश्न मेरा नहीं है, बल्कि पाकिस्तानी पंजाब के मुख्यमंत्री उस्मान बुजदार (Pakistan Punjab Chief Minister Usman Buzdar) ने स्वास्थ्य विभाग के एक मीटिंग में अधिकारियों से पूछा था! इस को लेकर तब के पाकिस्तानी चैनलो ने काफी खिल्ली उड़ाई थी!

हमारे ज्यादातर जन प्रतिनिधियों का स्तर पाकिस्तानी पंजाब प्रांत के मुख्यमंत्री से मिलता जुलता नहीं है क्या? ये जब जनता से संबंधित मुद्दों की समझ नहीं रखते हैं तो अपनी राजनीति का आधार जाति, धर्म, पैसा, और व्यक्तिगत संबंधों को बनाते हैं। इस के लिए सिर्फ ये लोग ही जिम्मेदार हैं? इन्हें वोट दे कर यहँ तक पहुंचाने वाली जनता की कोई जवाबदेही नहीं है क्या?

Wheeler Island Is Now Abdul Kalam Island | Abdul Kalam Island: Latest News

ऐसा नही हैं कि सभी जनप्रतिनिधि इसी तरह के हैं! वैसे तो अब्दुल कलाम साहब ने बहुत कम नेताओं की प्रशंसा में कुछ लिखा है, लेकिन एक घटना में उन्होंने बीजू पटनायक की प्रशंसा करते हुए लिखा है कि, बात तब की है जब कलाम साहब युवा वैज्ञानिक के रूप में कैरियर के शुरूआती पड़ाव में थे, उन्हें बीजू पटनायक तब के उड़ीसा के मुख्यमंत्री से मिलने जाना था। कार्य महत्वपूर्ण था, भारत ने अपना मिसाइल कार्यक्रम शुरू करने का फैसला किया था। मिसाइलों के परीक्षण के लिए एक निर्जन स्थान की आवश्यकता थी, ताकि परीक्षण के असफल होने के स्थिति में जान माल की नुकसान न हो सके।

बहुत खोजने पर उड़ीसा के पास एक द्वीप मिला जो काम लायक था, उस का नाम व्हीलर द्वीप ओडिशा, था, अब इस का नाम अब्दुल कलाम द्वीप है। यह उड़ीसा सरकार के अधिकार में था, इसी द्वीप को DRDO लेना चाहता था। इस के लिए विभाग द्वारा आवेदन किया गया था, मुख्यमंत्री को सहमत करने की जवाबदेही कलाम साहब पर थी।

इस से पहले इतना बड़ा नेता से मिलने का अनुभव कलाम साहब को तब नहीं था। अंदर से थोड़ा घबराहट थी, वो मिलने के लिए निर्धारित समय से कुछ पहले पहुंचना चाहते थे ताकी कुछ गड़बड़ न हो, लेकिन पहुँचते ही सारी घबराहट दूर हो गई।

बीजू बाबू पोर्टिको में ही कलाम साहब का इंतजार करते मिल गए। वह कलाम साहब का हाथ पकड़ कर अंदर ले गए और नाश्ता मंगवाया। बड़े प्यार से पूछा, भारत की सुरक्षा के लिए क्या-क्या कार्यक्रम चल रहा है। कुछ व्यक्तिगत प्रश्न भी थे।

कुछ देर बाद कलाम साहब ने फाइल पर चर्चा करनी चाही तो बीजू बाबू ने कहा, मैंने फाइल देख ली है, और अनुमति भी दे दी है। आज से यह द्वीप आप का है। आप हमारे राष्ट्र को सुरक्षित करने के लिए इतना परिश्रम कर रहे हैं, हमारे लिए और कोई काम हो तो बे झिझक बोलिए। कलाम साहब बीजू बाबू के कायल हो गए।

व्हीलर द्वीप का नया नाम | व्हीलर द्वीप का क्या महत्व है | व्हीलर द्वीप इन हिंदी | Wheeler Island’s new name | What is the significance of Wheeler Island? Wheeler Island In Hindi

आज उस द्वीप पर भारत ने पृथ्वी मिसाइल का परीक्षण (Prithvi missile test) किया, फिर अग्नि सीरीज की बैलिस्टिक मिसाइल (agni series ballistic missile of india) अग्नि 1, से अग्नि 5 तक, सबसोनिक क्रूज मिसाइल निर्भय (Nirbhay Subsonic Cruise Missile), ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल (BrahMos ब्रह्मोस प्रक्षेपास्त्र), के अलावा, नाग, धनुष, एयर डिफेंस के लिए आकाश, QRSM, XRSM मिसाइलों का परीक्षण यहीं चल रहा है। इस के अलावा आने वाले 20 से 22 अगस्त के बीच भारत इस द्वीप से भारत की सबसे शक्तिशाली हाइपर सोनिक मिसाइल के परीक्षण के नोटिस जारी कर दिया है। भारत यदि ऐसा करने में कामयाबी हासिल कर लेता है तो रूस के बाद हाइपर सोनिक मिसाइल बनाने वाला दुनिया का दूसरा ही देश होगा।

अजय कुमार सिंह (AJAY  KUMAR SINGH आरा) लेखक स्वतंत्र टिप्पणीकार हैं।
अजय कुमार सिंह (AJAY KUMAR SINGH आरा)
लेखक स्वतंत्र टिप्पणीकार हैं।

कहा जाता है कि हाइपर सोनिक मिसाइल दुनिया के किसी भी रडार के पकड में नहीं आता है, इस तरह से देश को सुरक्षित बनाने के लिए बीजू बाबू और कलाम साहब जैसे वैज्ञानिकों द्वारा तालमेल शुरू किया गया। प्रयास की आवश्यकता होती है, हमारे देश के वैज्ञानिक कलाम साहब के तरह प्रतिभावान होने चाहिएं, तो यह भी जरूरी है कि बीजू बाबू जैसे समझदार और प्रोत्साहन देने वाले जनप्रतिनिधियों की भी आवश्यकता है। हमने प्रधान मंत्री और रक्षा मंत्री को छोड कर एक छोटे राज्य के मुख्यमंत्री का हवाला इस कारण दिया क्योंकि देश की उन्नति के लिए सभी जनप्रतिनिधियों की भूमिका होती है। इन की समझदारी और बेवकूफी अंततः जनता को ही प्रभावित करती है!

जय हिंद

अजय कुमार सिंह (AJAY  KUMAR SINGH आरा)

लेखक स्वतंत्र टिप्पणीकार हैं।

पाठकों सेअपील - “हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें
 

Leave a Reply