Home » Latest » जब दिलीप मंडल ने पूछा सबसे भड़काऊ, आग लगाऊ एंकर कौन है, लोगों ने बता दिए ये नाम
Dilip Mandal

जब दिलीप मंडल ने पूछा सबसे भड़काऊ, आग लगाऊ एंकर कौन है, लोगों ने बता दिए ये नाम

When Dilip Mandal asked who is the most provocative, fiery anchor, people told these names

नई दिल्ली, 29 फरवरी 2020. वरिष्ठ पत्रकार दिलीप मंडल ने ट्विटर पर सवाल पूछ लिया कि सबसे भड़काऊ, आग लगाऊ एंकर कौन है? इस पर किसी ने रवीश कुमार का नाम लिया तो किसी ने सुधीर चौधरी का। कुछ ने खुद मंडल को ही आग लगाऊ बता डाला।

दिलीप मंडल ने ट्वीट किया,

“आपके हिसाब से सबसे भड़काऊ, आग लगाऊ एंकर कौन है?

#जातिवादी_सांप्रदायिक_मीडिया”

इस पर लोगों ने अलग अलग नाम लिए। मंडल ने दो तीन ट्वीट मीडिया को लेकर लगातार किए और हैशटैग #जातिवादी_सांप्रदायिक_मीडिया का इस्तेमाल किया। थोड़ी देर में ही हैशटैग भारत में ट्रेंड करने लगा।

अरुण अग्रवाल ने कहा,

“ये पूछिये के आग बुझाने वाला कौन है क्योंकि आग लगाने वाले तो बहुत हैँ”

एक अन्य ट्वीट में मंडल ने कहा,

“सतर्क रहें। वरना मीडिया आपको जोम्बी बना देगा।  #जातिवादी_सांप्रदायिक_मीडिया“

एक अन्य ट्वीट में मंडल ने कहा,

“अगर आप अपने बच्चों को दंगाई बनाने से बचाना चाहते हैं तो  #जातिवादी_सांप्रदायिक_मीडिया से उन्हें दूर रखें।“

एक अन्य ट्वीट में उन्होंने कहा,

“मीडिया की आजादी के इंडेक्स पर भारत दुनिया का 140वें नंबर का देश है. शर्म तो आनी चाहिए मीडिया को.

https://economictimes.indiatimes.com/news/politics-and-nation/india-drops-down-on-world-press-freedom-index/articleshow/68940683.cms?from=mdr

#जातिवादी_सांप्रदायिक_मीडिया”

 

हस्तक्षेप के संचालन में मदद करें!! 10 वर्ष से सत्ता को दर्पण दिखाने वाली पत्रकारिता, जो कॉरपोरेट और राजनीति के नियंत्रण से मुक्त भी हो, के संचालन में हमारी मदद कीजिये. डोनेट करिये.
 
 भारत से बाहर के साथी पे पल के माध्यम से मदद कर सकते हैं। (Friends from outside India can help through PayPal.) https://www.paypal.me/AmalenduUpadhyaya

हस्तक्षेप के संचालन में मदद करें!! सत्ता को दर्पण दिखाने वाली पत्रकारिता, जो कॉरपोरेट और राजनीति के नियंत्रण से मुक्त भी हो, के संचालन में हमारी मदद कीजिये. डोनेट करिये.
 

हमारे बारे में hastakshep

Check Also

Akhilendra Pratap Singh

भारत-चीन टकराव : मौजूदा सत्ता प्रतिष्ठान की इसके हल में कोई दिलचस्पी नहीं है

India-China Conflict: The current power establishment is not interested in its solution 7 जुलाई 2020 …