Home » समाचार » कानून » जब जामिया में छात्रों ने लगाए ‘विजय गोयल गो बैक’ के नारे
vijay goel bjp

जब जामिया में छात्रों ने लगाए ‘विजय गोयल गो बैक’ के नारे

When the students chanted ‘Vijay Goel Go Back’ in Jamia

नई दिल्ली, 16 दिसंबर 2019 : भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के सांसद व पूर्व केंद्रीय मंत्री विजय गोयल (vijay goel bjp) आज दोपहर जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय में आंदोलनकारी छात्रों से बात (Talk to agitating students at Jamia Millia Islamia University) करने पहुंचे। लेकिन विजय गोयल के पहुंचने पर छात्रों ने उनका भारी विरोध किया और विजय गोयल गो बैक‘ (Vijay Goeal Go Back) के नारे लगाए।

राज्यसभा सांसद विजय गोयल ने इस पूरे आंदोलन को दुर्भाग्यपूर्ण व राजनीति से प्रेरित बताया।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक उन्होंने कहा,

“नागरिकता संशोधन कानून से किसी को डरने की आवश्यकता नहीं है। यह कानून किसी के भी अधिकारों में कटौती नहीं करता है न ही इस कानून के लागू होने से किसी भी भारतीय की नागरिकता को खतरा है।”

विजय गोयल ने इस पूरे आंदोलन को आम आदमी पार्टी (आप) की साजिश करार दिया है।

गोयल के मुताबिक, दिल्ली के मुख्यमंत्री नागरिक संशोधन कानून के मुद्दे पर लोगों को आंदोलन करने के लिए कह रहे हैं। उप-मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया इसे चुनावी मुद्दा बना रहे हैं।

उन्होंने स्थानीय विधायक अमानतुल्लाह को जामिया में हिंसा भड़काने का जिम्मेदार ठहराया। उन्होंने कहा कि अमानतुल्ला यहां भड़काऊ भाषण दे रहे हैं। विजय गोयल ने कहा कि धरना दे रहे अधिकांश लोगों में छात्र कम, नेता व राजनीतिक कार्यकर्ता अधिक हैं।

कल श्री गोयल ने ट्वीट (Vijay Goel BJP Twitter) कर कहा था,

“दिल्ली पुलिस मुख्यालय पर अब कम्युनिस्ट पार्टी के दिल्ली यूनिवर्सिटी के शिक्षक और छात्र संगठन SFI अपनी राजनीतिक रोटियां सेंकने और भड़काने पहुंच गए है। सावधान।“

जामिया परिसर में प्रदर्शनकारियों के बीच मौजूद छात्र नेता जावेद मीर ने विजय गोयल के आरोपों को बेबुनियाद ठहराया। जावेद ने कहा कि प्रदर्शन कर रहे लोग छात्र ही हैं, जो इस विषय पर आंदोलन व जागरूकता फैलाने का कार्य कर रहे हैं और इसमें किसी प्रकार की राजनीति नहीं ढूंढ़ी जानी चाहिए।

हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें. ट्विटर पर फॉलो करें. वाट्सएप पर संदेश पाएं. हस्तक्षेप की आर्थिक मदद करें

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

akhilesh yadav farsa

पूंजीवाद में बदल गया है अखिलेश यादव का समाजवाद

Akhilesh Yadav’s socialism has turned into capitalism नई दिल्ली, 27 मई 2022. भारतीय सोशलिस्ट मंच …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.