जब जामिया में छात्रों ने लगाए ‘विजय गोयल गो बैक’ के नारे

When the students chanted ‘Vijay Goel Go Back’ in Jamia

नई दिल्ली, 16 दिसंबर 2019 : भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के सांसद व पूर्व केंद्रीय मंत्री विजय गोयल (vijay goel bjp) आज दोपहर जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय में आंदोलनकारी छात्रों से बात (Talk to agitating students at Jamia Millia Islamia University) करने पहुंचे। लेकिन विजय गोयल के पहुंचने पर छात्रों ने उनका भारी विरोध किया और विजय गोयल गो बैक‘ (Vijay Goeal Go Back) के नारे लगाए।

राज्यसभा सांसद विजय गोयल ने इस पूरे आंदोलन को दुर्भाग्यपूर्ण व राजनीति से प्रेरित बताया।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक उन्होंने कहा,

“नागरिकता संशोधन कानून से किसी को डरने की आवश्यकता नहीं है। यह कानून किसी के भी अधिकारों में कटौती नहीं करता है न ही इस कानून के लागू होने से किसी भी भारतीय की नागरिकता को खतरा है।”

विजय गोयल ने इस पूरे आंदोलन को आम आदमी पार्टी (आप) की साजिश करार दिया है।

गोयल के मुताबिक, दिल्ली के मुख्यमंत्री नागरिक संशोधन कानून के मुद्दे पर लोगों को आंदोलन करने के लिए कह रहे हैं। उप-मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया इसे चुनावी मुद्दा बना रहे हैं।

उन्होंने स्थानीय विधायक अमानतुल्लाह को जामिया में हिंसा भड़काने का जिम्मेदार ठहराया। उन्होंने कहा कि अमानतुल्ला यहां भड़काऊ भाषण दे रहे हैं। विजय गोयल ने कहा कि धरना दे रहे अधिकांश लोगों में छात्र कम, नेता व राजनीतिक कार्यकर्ता अधिक हैं।

कल श्री गोयल ने ट्वीट (Vijay Goel BJP Twitter) कर कहा था,

“दिल्ली पुलिस मुख्यालय पर अब कम्युनिस्ट पार्टी के दिल्ली यूनिवर्सिटी के शिक्षक और छात्र संगठन SFI अपनी राजनीतिक रोटियां सेंकने और भड़काने पहुंच गए है। सावधान।“

जामिया परिसर में प्रदर्शनकारियों के बीच मौजूद छात्र नेता जावेद मीर ने विजय गोयल के आरोपों को बेबुनियाद ठहराया। जावेद ने कहा कि प्रदर्शन कर रहे लोग छात्र ही हैं, जो इस विषय पर आंदोलन व जागरूकता फैलाने का कार्य कर रहे हैं और इसमें किसी प्रकार की राजनीति नहीं ढूंढ़ी जानी चाहिए।

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Leave a Comment
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations