Home » Latest » एय बे उसूल ज़िंदगी/ फ़ाश कहाँ हुए तुझपे/अब तलक जन्नतों के राज़ …
डॉ. कविता अरोरा (Dr. Kavita Arora) कवयित्री हैं, महिला अधिकारों के लिए लड़ने वाली समाजसेविका हैं और लोकगायिका हैं। समाजशास्त्र से परास्नातक और पीएचडी डॉ. कविता अरोरा शिक्षा प्राप्ति के समय से ही छात्र राजनीति से जुड़ी रही हैं।

एय बे उसूल ज़िंदगी/ फ़ाश कहाँ हुए तुझपे/अब तलक जन्नतों के राज़ …

एय बे उसूल ज़िंदगी

फ़ाश कहाँ हुए तुझपे

अब तलक जन्नतों के राज़ …

सय्यारों के पार रहते हैं जो

ज़मीन पर हमने तो नहीं देखे

हज़ारों साल से लगी है तू

अपनी पुरज़ोर कोशिशों में …

मगर अब तक

धूल तक ना पा सकी है वहाँ की …

देखा …,

कितने परदों में संभाल रखा है

उन्होंने अपनी हर शय को

और एक तू और तेरा बेछलापन …

एय ज़मीं …..

गैरतें क्या हुयी तेरी ?

हमने तो सयानों से सुना था

बहुत कशिश है तुझमें …

खींचती है सबको तू ….

अपनी तरफ़ कूँ…..

मगर कब से देख रही हूँ

तेरी उकताई-उकताई तबियत ….

तेरे मुँह ज़ोर फ़ैसले ….

तेरी बेपरवाहियाँ …

ना इत्तलाह, ना एलान,

ना कोई मुहर लगे काग़ज़,

सीधा फ़रमान …..

कैसे छाती पर से

उतार-उतार कर उछाले जा रही है

अपनी ही रौनकें

तारों की तरफ़ कूं….

डॉ. कविता अरोरा

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

Dr. Ram Puniyani - राम पुनियानी

हंसी सबसे अच्छी दवा है : मुनव्वर फारूकी

स्टेंडअप कॉमेडियन मुनव्वर फारूकी (Standup Comedian Munawwar Farooqui) बेंगलुरू में एक परोपकारी संस्था के लिए …

Leave a Reply