सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज ने आरिफ मोहम्मद खान को भाजपा का चमचा क्यों कहा ?

Why did a former Supreme Court judge call Arif Mohammad Khan a BJP flatterer (BJP chamcha)?

नई दिल्ली, 01 फरवरी 2020. सर्वोच्च न्यायालय के अवकाशप्राप्त न्यायाधीश जस्टिस मार्कंडेय काटजू (Justice Markandey Katju, retired judge of the Supreme Court) ने केरल के राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान (Kerala Governor Arif Mohammad Khan) को भाजपा का चमचा कहा है।

जस्टिस काटजू ने अपने सत्यापित फेसबुक पेज पर लिखा,

“मैं आरिफ मोहम्मद खान का सम्मान करता था, जब उन्होंने मानवीय शाहबानो के फैसले का बहादुरी से समर्थन किया था, और यहां तक कि इस मुद्दे पर अपने केंद्रीय मंत्री के पद का भी बलिदान किया था।

लेकिन अब मैं उनके लिए मेरा सम्मान समाप्त हो चुका है, क्योंकि वह भाजपा के चमचा बन गए हैं।“

बता दें कि विवादास्पद नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में जाने के बाद केरल सरकार ने कहा था कि वह इस कानून के खिलाफ अपनी लड़ाई जारी रखेगी, क्योंकि यह देश की धर्मनिरपेक्षता और लोकतंत्र को नष्ट करने की दिशा में उठाया गया कदम है।

सुप्रीम कोर्ट में नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) को चुनौती देने के चलते आरिफ मोहम्मद खान ने विजयन सरकार पर भी हमला किया था और केरल विधानसभा में उनके गो बैक के नारे लगे थे।

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations