Home » Latest » राहुल गांधी ने पूछा – क्यों कई तानाशाहों के नाम ऐसे हैं जो M से शुरू होते हैं? मंडल ने दी नसीहत तो लोगों ने दौड़ा लिया
Rahul Gandhi

राहुल गांधी ने पूछा – क्यों कई तानाशाहों के नाम ऐसे हैं जो M से शुरू होते हैं? मंडल ने दी नसीहत तो लोगों ने दौड़ा लिया

Why do so many dictators have names that begin with M ?

नई दिल्ली, 03 फरवरी 2021. पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने पूछा है कि कई तानाशाहों के नाम ऐसे क्यों हैं जो M से शुरू होते हैं?

श्री गांधी ने ट्वीट किया,

“क्यों कई तानाशाहों के नाम ऐसे हैं जो M से शुरू होते हैं?

मार्कोस

मुसोलिनी

मिलोसेवी

मुबारक

मोबुतु

मुशर्रफ

माईकोम्बरो”

राहुल गांधी का ट्वीट थोड़ी ही देर में वायरल हो गया।

उधर राहुल गांधी की सोशल मीडिया टीम में भर्ती होने के लिए लालायित समझे जाने वाले वरिष्ठ पत्रकार प्रोफेसर दिलीप मंडल ने राहुल गांधी को नसीहत दी –

“सोशल मीडिया टीम बदल लीजिए @RahulGandhi ! आपकी हैंडल से ये ह्वाट्सऐप फ़ॉरवर्ड कौन पोस्ट कर रहा है। आपकी इमेज बिगाड़ने वाले सिर्फ़ बीजेपी में नहीं हैं। किसान आंदोलन गंभीर मसला है। आप विपक्ष के सबसे बड़े नेता है। थोड़ी मर्यादा तो रखिए। आपकी पार्टी के जाने कितने नेता का नाम M से है।“

दिलीप मंडल की नसीहत पर कई लोगों ने उल्टा दिलीप मंडल को ही नसीहत दे डाली। एक ट्विटर उपभोक्ता वंदना गुप्ता ने लिखा –

“आपको दिक्कत क्या है @RahulGandhi से, और कौन सी मर्यादा का उल्लंघन कर दिया राहुल गांधी ने, तानाशाहों के नाम बताए हैं, दुख किस बात का है कि मायावती का नाम तानाशाहों की लिस्ट में नहीं इसलिए…”

एक अन्य ट्विटर उपभोक्ता हिमांशु राजा ने लिखा –

“आप का भी M से होता है इसलिये तकलीफ हो रही है ना!!!”

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

paulo freire

पाओलो फ्रेयरे ने उत्पीड़ियों की मुक्ति के लिए शिक्षा में बदलाव वकालत की थी

Paulo Freire advocated a change in education for the emancipation of the oppressed. “Paulo Freire: …

Leave a Reply