Home » Latest » जानिए जस्टिस काटजू क्यों जस्टिस बोबडे के महिला सीजेआई के सुझाव से असहमत हैं
Chief justice of India Sharad Arvind Bobde

जानिए जस्टिस काटजू क्यों जस्टिस बोबडे के महिला सीजेआई के सुझाव से असहमत हैं

Why Justice Katju disagreed with Justice Bobde’s suggestion

नई दिल्ली, 17 अप्रैल 2021. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक शीघ्र सेवानिवृत्त हो रहे भारत के सर्वोच्च न्यायालय के प्रधान न्यायाधीश जस्टिस शरद अरविंद बोबडे (Chief Justice of India SA Bobde) ने बीते गुरूवार को कहा कि समय आ गया है जब एक महिला को भारत का मुख्य न्यायाधीश होना चाहिए। उन्होंने यह भी कहा कि न्यायपालिका में महिलाओं का अधिक प्रतिनिधित्व सुनिश्चित करने के लिए कॉलेजियम के रवैये में बदलाव की कोई आवश्यकता नहीं है। लेकिन उनके इस सुझाव पर विवाद खड़ा हो गया है। सर्वोच्च न्यायालय के अवकाशप्राप्त न्यायाधीश जस्टिस मार्कंडेय काटजू (Justice Markandey Katju, retired judge of the Supreme Court) ने जस्टिस बोबडे के सुझाव से अपनी असहमति व्यक्त की है।

हस्तक्षेप डॉट कॉम के अंग्रेजी पोर्टल पर लिखे एक लेख “Why Justice Katju disagreed with Justice Bobde’s suggestion” में जस्टिस काटजू ने कहा कि “सीजेआई बोबडे, जो जल्द ही सेवानिवृत्त हो रहे हैं, ने कहा कि अब समय आ गया है कि एक महिला सीजेआई हो। (Time has come for a woman Chief Justice of India: CJI SA Bobde https://www.indiatoday.in/india/story/supreme-court-sa-bobde-woman-chief-justice-of-india-1791553-2021-04-16 ) मैं आदरपूर्वक असहमत हूं।“

उन्होंने कहा कि एक वादकारी के लिए, न्यायाधीश का लिंग पूरी तरह अप्रासंगिक है। उसके लिए जो प्रासंगिक है वह यह है कि उसके मामले में न्याय किया जाता है।

जस्टिस काटजू ने कहा कि कई लोग कहते हैं कि महिलाएं पुरुषों की तुलना में अधिक दयालु और मानवीय होती हैं (और इसलिए न्याय बेहतर कर सकती हैं)। इसका कोई प्रमाण नहीं है। वास्तव में ऑशविट्ज़ जैसे नाजी यातना शिविरों (Nazi concentration camps) में महिला गार्ड इरमा ग्रेस और मारिया मंडल, बुचेनवाल्ड में इल कोक (Ilse Koch at Buchenwald) और रवेन्सब्रुक में डोरोथिया बिंज़ (Dorothea Binz at Ravensbruck), पुरुष गार्ड की तुलना में अधिक अमानवीय और क्रूर थीं।

और जानवरों की दुनिया में, कई मादा जीव, जैसे कि praying mantis एक नर द्वारा गर्भवती होने के बाद, वास्तव में बाद में उसे खा जाती हैं।

https://www.theguardian.com/science/2016/jun/29/having-your-partner-for-dinner-praying-mantis-cannibalism-boosts-fertility-study

हरिओम

इस लेख को मूल रूप में आप इस लिंक https://www.hastakshepnews.com/why-justice-katju-disagreed-with-justice-bobdes-suggestion/ पर पढ़ सकते हैं।

Praying mantis in Hindi – praying mantis meaning in Hindi

प्रेइंग मेंटिस कीड़ा जो अपने अगले पैर को इस तरह जोड़े रहता मानो प्रार्थना कर रहा हो। अपने शिकार की प्रतीक्षा करते समय गतिहीन और एकदम से अस्पष्ट मेन्टिस अपने अग्रपादों को शरीर से सटा लेता है। उसकी दोनों टांगें आगे की और उठी रहती हैं और ऐसी विचित्र मुद्रा बन जाती है मानो मेन्टिस हाथ जोड़े प्रार्थना कर रहा हो और इसीलिए अंग्रेजी में इसका नाम ‘ प्रेयिंग मेन्टिस ‘ पड़ा।

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

Mohan Markam State president Chhattisgarh Congress

उर्वरकों के दाम में बढ़ोत्तरी आपदा काल में मोदी सरकार की किसानों से लूट

Increase in the price of fertilizers, Modi government looted from farmers in times of disaster …

Leave a Reply