Home » Latest » जानिए पुरुषों के मुकाबले महिलाओं में मधुमेह से दिल का दौरा पड़ने की आशंका क्यों अधिक होती है
Women's Health

जानिए पुरुषों के मुकाबले महिलाओं में मधुमेह से दिल का दौरा पड़ने की आशंका क्यों अधिक होती है

Know why women are more susceptible to heart attack due to diabetes than men

मधुमेह गंभीर रूप से हृदय रोग के लिए आपके जोखिम को बढ़ाता है और दिल का दौरा पड़ने के बाद आपके बचने की संभावना कम करता है। यह महिलाओं और पुरुषों के दोनों के लिए सच है। लेकिन हृदय रोग विकसित करने वाले मधुमेह वाले पुरुषों की संख्या कम हो गई है। उधर हाल के वर्षों में मधुमेह से पीड़ित महिलाओं में हृदय रोग पनपने की संख्या में कोई कमी नहीं आई है।

विशेषज्ञों का मानना है कि मधुमेह से पीड़ित महिलाओं में हृदय रोग पनपने की संख्या में कोई कमी नहीं आने का कारण हृदय रोग, मधुमेह और मोटापे के बीच की कड़ी के कारण हो सकता है, विशेष रूप से शरीर की अतिरिक्त वसा जो कमर के आसपास होती है।

यह लिंक पुरुषों की तुलना में महिलाओं, विशेष रूप से रजोनिवृत्ति के बाद की महिलाओं के लिए अधिक हो सकता है।

अनियंत्रित मधुमेह आपकी धमनियों को नुकसान पहुंचा सकता है और जिससे आपको उच्च रक्तचाप होने और रक्त के थक्के बनने की अधिक आशंका होती है, जिससे दिल का दौरा पड़ सकता है।

About 28% of Americans with diabetes don’t know that they have it.

लगभग 28% मधुमेह वाले अमेरिकियों को नहीं पता है कि उनको यह बीमारी है।

The only way to know for sure whether you have diabetes is to get a blood test.

यह सुनिश्चित करने के लिए कि आपको मधुमेह है या नहीं, इसका एकमात्र तरीका रक्त परीक्षण है।

टॉपिक्स – Women’s Health, heart disease and stroke, heart disease, heart disease risk factors, health conditions, महिलाओं के स्वास्थ्य, हृदय रोग और स्ट्रोक, हृदय रोग, हृदय रोग के जोखिम कारक, स्वास्थ्य की स्थिति.

नोट – यह समाचार किसी भी हालत में चिकित्सकीय परामर्श नहीं है। यह समाचारों में उपलब्ध सामग्री के अध्ययन के आधार पर जागरूकता के उद्देश्य से तैयार की गई अव्यावसायिक रिपोर्ट मात्र है। आप इस समाचार के आधार पर कोई निर्णय कतई नहीं ले सकते। स्वयं डॉक्टर न बनें किसी योग्य चिकित्सक से सलाह लें। जानकारी का स्रोतThe Office on Women’s Health) 

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

health impact

नयी नीतियां बनाने के साथ वर्तमान नीतियों का क्रियान्‍वयन भी जरूरी : विशेषज्ञ

Along with making new policies, implementation of existing policies is also necessary: Expert मुंबई, 2 मार्च 2021.. विशेषज्ञों, सिविल सोसायटी …

Leave a Reply