Home » हस्तक्षेप » आपकी नज़र » परिभाषाओं के बदलते अर्थों में अब महिलाओं को चरित्रहीन ही होना चाहिये !
डॉ. कविता अरोरा (Dr. Kavita Arora) कवयित्री हैं, महिला अधिकारों के लिए लड़ने वाली समाजसेविका हैं और लोकगायिका हैं। समाजशास्त्र से परास्नातक और पीएचडी डॉ. कविता अरोरा शिक्षा प्राप्ति के समय से ही छात्र राजनीति से जुड़ी रही हैं।

परिभाषाओं के बदलते अर्थों में अब महिलाओं को चरित्रहीन ही होना चाहिये !

कल कल्लन के लिये गेट पर मजमा लगा..

पुलिस आई

ज़ाहिल औरतों की इक टोली चिल्लाई

इसने कल्लन का हाथ पकड़ा…

थी तो बेहयाई पर मुझे ज़ोर से हँसी आई..

शक्ल से कबूतर उम्र पचपन से ऊपर..

कल्लन क्या खो चुका है दिमाग़ी आपा…

अधेड़ उम्र पर जे सुतियापा…

हट्टे कट्टे मुस्टंडे कल्लन ने हाथ क्यूँ नहीं छुड़ाया..

मजमई भेड़ों की अक़्ल में यह प्रश्न ही नहीं आया…

कल्लन को पूरी उम्मीद थी अपने लगाये इल्ज़ाम से मेरे रोने धोने की..

सामाजिक चरपईया से उतरते इज़्ज़ती बिछौने की…

मगर फ़िक्रों से परे मुझ बेशर्म को लाज ही नहीं आई..

औरतों की ओट में छुपे कल्लन पर मैं ज़ोर से चिल्लाई…

हाँ हाथ पकड़ा मगर क्यूँ यह तो कल्लन से पूछो…

कल्लन कंपकंपाया मूँछों ही मूँछों…

ख़ुद पर से कल्लन का कान्फिडेंस डगमगा गया…

लगाये इल्ज़ाम का गणित जो गड़बड़ा गया…

कल्लन चुपके से भीड़ से कटा..

उसका शराफ़ती नक़ाब भी हटा…

कल्लन पुराना शातिर और कमीन था

उसे इस पौराणिक हथकंडे पे बेहद यक़ीन था…

युगो से यूँ ही कल्लनों की टोली

हस्तक्षेप के संचालन में मदद करें!! 10 वर्ष से सत्ता को दर्पण दिखाने वाली पत्रकारिता, जो कॉरपोरेट और राजनीति के नियंत्रण से मुक्त भी हो, के संचालन में हमारी मदद कीजिये. डोनेट करिये.
 
 भारत से बाहर के साथी पे पल के माध्यम से मदद कर सकते हैं। (Friends from outside India can help through PayPal.) https://www.paypal.me/AmalenduUpadhyaya

औरतों के पैरों की ज़मीन खींच रहीं है

और अपने पुरूषत्व की सूखी जड़ों को

इस तरीक़े से सींच रहीं है ..

यह टोली समाज में लीक से हटकर चलती औरतों की शक्ल छाँटती है ..

और इल्ज़ामों की कैंचियो से उनके पर काटती है..

फिर इशतिहारी शक्लों का पान की दुकान पर जुट्टा…

फब्तियाँ सीटियाँ कसते, लगाते हुए सुट्टा …

अपनी मर्दानगी पर ग़ुरूर करते हैं

कुछ इस तरह से अपने-अपने डरों को दूर करते हैं..

इतिहास गवाह है..

द्रौपदी और दुर्योधन की लॉबी..

सीता पे इल्ज़ाम में इक धोबी….

मीरा से डरे तो ज़हर का प्याला…

अहिल्या को तो देवता इन्द्र ने छल डाला

युगों-युगों से बजा रहे हैं यहीं बीन…

जो लीक से हट के चले वो चरित्रहीन…

मगर परिभाषाओं के बदलते अर्थों में

अब खोना चाहिये …

महिलाओं को चरित्रहीन ही होना चाहिये …..

डॉ. कविता अरोरा

 

हस्तक्षेप के संचालन में मदद करें!! सत्ता को दर्पण दिखाने वाली पत्रकारिता, जो कॉरपोरेट और राजनीति के नियंत्रण से मुक्त भी हो, के संचालन में हमारी मदद कीजिये. डोनेट करिये.
 

हमारे बारे में hastakshep

Check Also

#CoronavirusLockdown, #21daylockdown , coronavirus lockdown, coronavirus lockdown india news, coronavirus lockdown india news in Hindi, #कोरोनोवायरसलॉकडाउन, # 21दिनलॉकडाउन, कोरोनावायरस लॉकडाउन, कोरोनावायरस लॉकडाउन भारत समाचार, कोरोनावायरस लॉकडाउन भारत समाचार हिंदी में, भारत समाचार हिंदी में,

महिलाओं के लिए कोई नया नहीं है लॉकडाउन

महिला और लॉकडाउन | Women and Lockdown महिलाओं के लिए लॉकडाउन कोई नया लॉकडाउन नहीं …

Leave a Reply