Home » Latest » दुनियाभर में रोजाना एक लाख में से दस लोग ब्रेन ट्यूमर के कारण मरते हैं
dr sumanto chaterjee

दुनियाभर में रोजाना एक लाख में से दस लोग ब्रेन ट्यूमर के कारण मरते हैं

ब्रेन ट्यूमर डे (World Brain Tumour day in Hindi)

World Brain Tumor Day 2021 | विश्व ब्रेन ट्यूमर दिवस

हर साल दुनिया में 8 जून को ब्रेन ट्यूमर डे (World Brain Tumour day) मनाया जाता है. इस दिन मस्तिष्क ट्यूमर से संबंधित जागरुकता फैलाने का प्रयास किया जाता है. इसी कड़ी में यशोदा सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल, कौशाम्बी में भी एक जागरूकता व्याख्यान का आयोजन किया गया। कोरोना के मद्देनजर यह प्रोग्राम फेसबुक लाइव के जरिये किया गया।

यशोदा हॉस्पिटल, कौशाम्बी के वरिष्ठ न्यूरोलॉजिस्ट डॉ सुमंतो चटर्जी (Dr Sumanto Chaterjee) ने फेसबुक लाइव के जागरूकता व्याख्यान जरिये मस्तिष्क ट्यूमर से संबंधित जानकारियां दीं और लोगों के सवालों का जवाब भी दिया।

उन्होंने बताया कि मष्तिष्क में ट्यूमर या गाँठ कई कारणों से हो सकते हैं, ऐसे में उनको जितना जल्दी पहचान लिया जाए वो ही अच्छा होता है। एक बार ट्यूमर बन जाने पर हर तीन महीने में या जल्दी एमआरआई जांच कर उसके बढ़ने को देखा जा सकता है। 

डॉ सुमंतो चटर्जी ने बताया कि ट्यूमर को दवाइयों से या रेडिएशन से या सर्जरी से ठीक किया जा सकता है।

डॉ सुमंतो ने कहा कि हर साल 8 जून को विश्व ब्रेन ट्यूमर दिवस मनाया जाता है। यह ट्यूमर मस्तिष्क की कोशिकाओं में होता है। जब ब्रेन में अनियंत्रित रूप में कोशिकाएं बढ़ने लगती हैं या फिर जमने लगती है तो ब्रेन ट्यूमर जानलेवा भी साबित हो सकता है। आज के समय में खराब जीवन शैली की वजह से किडनी, फेफड़े, हार्ट सबंधी कई रोगों का शिकार हो जाते हैं। उन्हीं में से एक है ब्रेन ट्यूमर। 

उन्होंने बताया कि जब ब्रेन में अनियंत्रित रूप में कोशिकाएं बढ़ने लगती हैं या फिर जमने लगती है तो ब्रेन ट्यूमर जानलेवा भी साबित हो सकता है। इसकी सबसे घातक बीमारियों में गिनी जाती है। इस दिवस को मनाने के पीछे उद्देश्य है कि लोगों को ब्रेन ट्यूमर के बारे में जागरूक करना। चिकित्सा विशेषज्ञों का यह मानना है कि दुनियाभर में रोजाना एक लाख में से दस लोग ब्रेन ट्यूमर के कारण मरते हैं। मस्तिष्क में अचानक असामान्य कोशिकाओं का बढ़ जाने को ब्रेन ट्यूमर कहते है। ब्रेन ट्यूमर कई प्रकार के होते हैं। इसमें मस्तिष्क के खास हिस्से में कोशिकाओं का गुच्छा बन जाता है। यह कई बार कैंसर की गांठ में तब्दील हो जाता है। ब्रेन ट्यूमर को कभी भी हल्के में नहीं लेना चाहिए। सही समय पर इसकी जानकारी होना बहुत जरूरी है।

हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें. ट्विटर पर फॉलो करें. वाट्सएप पर संदेश पाएं. हस्तक्षेप की आर्थिक मदद करें

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

shahnawaz alam

ज्ञानवापी मस्जिद के अंदर सर्वे : मीडिया और न्यायपालिका के सांप्रदायिक हिस्से के गठजोड़ से देश का माहौल बिगाड़ने की हो रही है कोशिश

फव्वारे के टूटे हुए पत्थर को शिवलिंग बता कर अफवाह फैलायी जा रही है- शाहनवाज़ …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.