Home » Latest » वर्ष 2025 तक, कैंसर के कारण समय से पहले होने वाली मौतों के बढ़कर प्रति वर्ष 60 लाख होने का अनुमान : डॉक्टर अभिषेक यादव
Cancer

वर्ष 2025 तक, कैंसर के कारण समय से पहले होने वाली मौतों के बढ़कर प्रति वर्ष 60 लाख होने का अनुमान : डॉक्टर अभिषेक यादव

हर साल फरवरी के प्रथम सप्ताह में मनाया जाता है विश्व कैंसर दिवस

जागरूकता ही कैंसर से सबसे बड़ा बचाव है : डॉ दीपक कुमार जैन

गाजियाबाद, 06 फरवरी 2021. यशोदा सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल में विश्व कैंसर दिवस पर एक जागरूकता कार्यक्रम (World Cancer Day Awareness Program) का आयोजन हुआ।

इस अवसर पर बोलते हुए यशोदा सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल कौशांबी गाजियाबाद के वरिष्ठ कैंसर विशेषज्ञ (Senior cancer specialist) डॉक्टर अभिषेक यादव ने बताया कि वर्तमान में, दुनिया भर में हर साल 76 लाख लोग कैंसर से दम तोड़ते हैं जिनमें से 40 लाख लोग समय से पहले (30-69 वर्ष आयु वर्ग) मर जाते हैं। इसलिए समय की मांग है कि इस बीमारी के बारे में जागरूकता बढ़ाने के साथ कैंसर से निपटने की व्यावहारिक रणनीति विकसित करना है।

उन्होंने बताया कि वर्ष 2025 तक, कैंसर के कारण समय से पहले होने वाली मौतों के बढ़कर प्रति वर्ष 60 लाख होने का अनुमान है। यदि विश्व स्वास्थ्य संगठन के 2025 तक कैंसर के कारण समय से पहले होने वाली मौतों में 25 प्रतिशत कमी के लक्ष्य को हासिल किया जाए तो हर साल 15 लाख जीवन बचाए जा सकते हैं।

पहली बार कब मनाया गया विश्व कैंसर दिवस  

हॉस्पिटल के वरिष्ठ कैंसर सर्जन डॉ दीपक कुमार जैन ने बताया कि 1933 में अंतर्राष्ट्रीय कैंसर नियंत्रण संघ ने स्विट्जरलैंड में जिनेवा में पहली बार विश्व कैंसर दिवस मनाया। यह दिवस कैंसर के बारे में जागरूकता बढ़ाने, लोगों को शिक्षित करने, इस रोग की रोकथाम करने के लिए दुनिया भर में सरकारों और व्यक्तियों को समझाने तथा हर साल लाखों लोगों को मरने से बचाने के लिए मनाया जाता है।

यशोदा सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल कौशांबी के वरिष्ठ कैंसर सर्जन डॉक्टर जलज बक्शी बताते हैं कि खान पान में बदलाव,  बदलती जीवनशैली कैंसर का प्रमुख वजह बनता जा रहा है। चालीस फीसद कैंसर सिर्फ तंबाकू के सेवन से होता है।

युवाओं में बढ़ती धूम्रपान की लत कैंसर को बढ़ावा दे रहा है। कैंसर की रोकथाम कैसे हो और लोगों में इसके प्रति जागरुकता बढ़े इसके लिए बहुत शीघ्रता से काम करने की जरूरत है। .

हॉस्पिटल की वरिष्ठ कैंसर सर्जन डॉक्टर मुक्ता बताती हैं कि पुरुषों में आमतौर पर कैंसर फेफड़े, मुंह, गले और आमाशय में होता है। वहीं अधिकांश महिलायें स्तन, मुंह और गर्भाशय के मुंह के कैंसर की शिकार हो रही हैं।

कैंसर के लक्षण | Symptoms of cancer

डॉ अभिषेक यादव ने लोगों को जागरूक करते हुए बताया कि कैंसर के लक्षण है, शरीर में किसी भी तरह की गांठ का अनियंत्रित बढ़ना, तिल का बढ़ना और रंग बदलना, किसी भी घाव का लंबे समय तक ठीक न होना, भूख कम लगना, वजन कम होना, थकान और आलस्य का बने रहना और दो हफ्ते से अधिक समय तक खांसी का रहना।

डॉ दीपक कुमार जैन ने कहा कि मतलब साफ है जागरूकता  ही इसका सबसे बड़ा बचाव है और आप यदि कैंसर से बचना चाहते हैं तो आपको अपनी जीवनशैली नियंत्रि‍त करनी होगी। इतना ही नहीं आपको अपने खानपान पर विशेष ध्यान होगा।
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

priyanka gandhi at mathura1

प्रियंका गांधी का मोदी सरकार पर वार, इस बार बहानों की बौछार

Priyanka Gandhi attacks Modi government, this time a barrage of excuses नई दिल्ली, 05 मार्च …

Leave a Reply