भाजपा को अपने पुराने नारे ‘जिसके बच्चे हों दस बीस – उसकी मदद करें जगदीस’ के लिए माफ़ी मांगनी चाहिए- शाहनवाज़ आलम

भाजपा को अपने पुराने नारे ‘जिसके बच्चे हों दस बीस – उसकी मदद करें जगदीस’ के लिए माफ़ी मांगनी चाहिए- शाहनवाज़ आलम

जनसंख्या नीति पर योगी आदित्यनाथ, साध्वी निरंजन ज्योति, स्वामी चिन्मयानंद, उमा भारती को अपना स्टैंड साफ करना चाहिए

लखनऊ, 22 जुलाई 2022। अल्पसंख्यक कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष शाहनवाज़ आलम ने भाजपा सांसद रवि किशन द्वारा जनसंख्या नियंत्रण क़ानून का प्रस्ताव (Population control law proposed by BJP MP Ravi Kishan) लाने को हास्यास्पद बताते हुए कहा कि संघ और भाजपा के पास जनसंख्या पर कोई एक नीति नहीं है। उसके ज़्यादातर नेता इस मुद्दे पर सिर्फ़ लोगों का मनोरंजन करते हैं।

शाहनवाज़ आलम ने कहा कि जनसंख्या नियंत्रण क़ानून लाने से पहले भाजपा नेताओं को जनसंघ के दौर के अपने नारे ‘जिनके बच्चे हों दस बीस उसकी मदद करें जगदीस’ के लिए देश से माफी मांगनी चाहिए। एक ज़माने में जनसंघ के नेता गली-गली घूम कर यही नारा लगाते थे। अब इसके ठीक उल्टा भाजपा जनसंख्या नियंत्रण के लिए क़ानून लाने की बात कर रही है।

उन्होंने कहा कि आख़िर कोई पार्टी किसी नीतिगत मुद्दे पर इस तरह यू टर्न कैसे ले सकती है।

शाहनवाज़ आलम ने कहा कि योगी, साध्वी ऋतंभरा, उमा भारती, साध्वी ज्योति निरंजन, स्वामी चिन्मयानन्द जैसे भाजपा नेता हिंदुओं से ज़्यादा बच्चे पैदा करने का आह्वान करते रहते हैं। ऐसे में अगर भाजपा यह क़ानून बनाती है तो इन नेताओं से पहले उसे माफ़ी मंगवानी चाहिए।

Yogi Adityanath, Sadhvi Niranjan Jyoti, Swami Chinmayanand, Uma Bharti should clear their stand on population policy

हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें. ट्विटर पर फॉलो करें. वाट्सएप पर संदेश पाएं. हस्तक्षेप की आर्थिक मदद करें

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.