Home » Latest » योगी सरकार ने छीना हजारों महिलाओं का रोजगार, वेतन तक का भुगतान नहीं – वर्कर्स फ्रंट
yogi adityanath

योगी सरकार ने छीना हजारों महिलाओं का रोजगार, वेतन तक का भुगतान नहीं – वर्कर्स फ्रंट

लाखों महिलाओं को रोजगार का सरकारी दावा खोखला – वर्कर्स फ्रंट

लखनऊ 29 नवम्बर 2020, प्रदेश में कोरोना काल में लगभग नौ लाख महिलाओं को रोजगार देने का सरकारी दावा खोखला है। सच्चाई यह है कि कोरोना महामारी के आपदा काल में भी योगी सरकार ने महिला समाख्या, 181 वूमेन हेल्पलाइन और आंगनबाड़ी में कार्यरत हजारों महिलाओं की नौकरी छीन ली। इनमें से कई को तो काम कराकर वेतन तक का भुगतान नहीं किया गया। यह सरकार मिशन शक्ति के नाम पर महिलाओं की सुरक्षा, सम्मान और स्वालम्बन का महज प्रचार कर रही है और इन उद्देश्यों को वास्तविकता में जमीनीस्तर पर उतारने वाली संस्थाओं को बर्बाद कर रही है। यह प्रतिक्रिया सरकारी दावों पर वर्कर्स फ्रंट के अध्यक्ष दिनकर कपूर ने प्रेस को जारी अपने बयान में दी।

उन्होंने बताया कि लाखों रोजगार के सरकारी दावों के एक बड़े भाग स्वयं सहायता समूह से पोषाहार वितरण के लिए साढे छः लाख महिलाओं को लगाने की हकीकत यह है कि यह समूह अभी तक महज कागज पर ही चल रहे है और इन्हें पांच सौ रूपए महीने देने की बात थी जिसे भी आज तक नहीं दिया गया है। इन समूहों द्वारा गर्भवती, धात्री महिलाओं व बालिकाओं को प्रतिमाह दो किलो गेहूं व एक चावल देकर लाभार्थी की गरीबी का मजाक उड़ाया जा रहा है। महिलाओं के अन्य रोजगार सम्बंधी भी जो आंकड़ेबाजी की गई है वह छलावा ही है। उत्तर प्रदेश में महिला रोजगार के भयावह हालत है चिकनकारी, बुनकरी व अन्य घरेलू व कुटीर उद्योग में लगी लाखों महिलाएं इन उद्योगों के तबाह होने से भुखमरी की हालत में जीवन जी रही है। हजारों आंगनबाड़ियों को बिना पेंशन, ग्रेच्युटी दिए जुलाई से जबरन सेवा से निकाल दिया गया। जो आंगनबाड़ियां काम कर रही है उनका दो माह से मानदेय भुगतान नहीं किया गया है। तीस साल से महिलाओं द्वारा संचालित और पिछड़े जिलों में महिलाओं व गरीबों को आत्मनिर्भर बनाने वाले महिला समाख्या जैसे महत्वपूर्ण कार्यक्रम को बंद कर दिया गया। इसी प्रकार महिलाओं को काल सेंटर से लेकर घटनास्थल तक सुरक्षा प्रदान करने वाले 181 वूमेन हेल्पलाइन (uttar pradesh 181 Woman Helpline,) को बंद कर दिया गया। इनमें काम करने वाली सैकड़ों महिलाओं का महीनों का वेतन बकाया है। वहीं प्रचार और विज्ञापन में करोंड़ो रूपए बहाया जा रहा है। इसलिए वर्कर्स फ्रंट सरकार की महिला विरोधी कार्यवाहियों के व्यापक भण्ड़ाफोड़ का अभियान चलायेगा और जन संवाद करके आम आवाम को इसकी सच्चाई से अवगत करायेगा। 

हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें. ट्विटर पर फॉलो करें. वाट्सएप पर संदेश पाएं. हस्तक्षेप की आर्थिक मदद करें

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

breaking news today top headlines

एक क्लिक में आज की बड़ी खबरें । 23 मई 2022 की खास खबर

ब्रेकिंग : आज भारत की टॉप हेडलाइंस Top headlines of India today. Today’s big news …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.