यूपी में क्वारंटीन सेंटर की बदहाली, कहीं बिस्तर पर मरा हुआ चूहा मिल रहा है तो कहीं गंदगी का अंबार – शिवपाल

Bad conditions of Quarantine centers in UP

लखनऊ, 04 मई 2020. प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) के नेता, सेक्यूलर मोर्चा के संयोजक और जसवंतनगर, इटावा, से उ.प्र. विधानसभा के सदस्य शिवपाल सिंह यादव ने यूपी में संगरोध केंद्रों की बुरी स्थिति (यूपी में क्वारंटाइन सेंटर की बदहाली- bad conditions of Quarantine centers in UP) पर राज्य सरकार को आड़े हाथों लिया है।

यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के चाचा शिवपाल सिंह यादव (Shivpal Singh Yadav) ने ट्वीट किया,

“प्रदेश के तमाम हिस्सों से #COVIDー19 क्वारंटीन सेंटर की बदहाली की तस्वीर आ रही है। कहीं बिस्तर पर मरा हुआ चूहा मिल रहा है तो कहीं गंदगी का अंबार लगा नजर आ रहा है। भोजन को लेकर भी अव्यवस्था की खबरें आ रही हैं। स्वास्थ्य निर्देशों के साथ आवश्यक व्यवस्थाएं सुनिश्चित करें @UPGovt ।“

एक अन्य ट्वीट में उन्होंने कहा,

“#COVID19 आपदा के बीच इटावा के बीबा मऊ में एक बार फिर

@Uppolice का अमानवीय व बर्बर चेहरा सामने आया है। पुलिस जवान द्वारा मानसिक रूप से विक्षिप्त निर्दोष युवक को बेरहमी से पीटा गया है। दोषी पुलिसकर्मी के खिलाफ मात्र निलंबन की कार्रवाई पर्याप्त नहीं है,#FIR दर्ज कर कड़ी कार्रवाई हो।”

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Leave a Comment
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations