Home » समाचार » देश » Corona virus In India » तुम्हारे पास 1 हज़ार करोड़ का विज्ञापन देने के पैसे थे, पर वेंटीलेटर ख़रीदने के नहीं? शर्म करो। योगी जी, अपना ख्याल रखिये
Surya Pratap Singh Yogi Adityanath

तुम्हारे पास 1 हज़ार करोड़ का विज्ञापन देने के पैसे थे, पर वेंटीलेटर ख़रीदने के नहीं? शर्म करो। योगी जी, अपना ख्याल रखिये

You had the money to advertise 1 thousand crores, but not to buy a ventilator? Have some Shame. Yogi ji, take care of yourself

लखनऊ, 13 अप्रैल 2021. उत्तर प्रदेश में कोरोना बुरी तरह बेकाबू हो रहा है। इस बीच पूर्व आईएएस अधिकारी सूर्यप्रताप सिंह ने कोरोना से निपट पाने में विफल रहने पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और प्रधानमंत्री पर निशाना साधा है।

सूर्यप्रताप सिंह ने सिलसिलेवार कई ट्वीट किए। उन्होंने कहा

“क्या बना दिया मेरे देश को?

आक्सीजन के लिए तड़पती जनता, बिना बेड के सड़कों पर मरती जनता, बिना एंबुलेंस गुहार लगाती जनता, बिना जाँच के परेशान जनता।

सबसे बुरी तरह प्रभावित गरीब वर्ग जिसकी कोई सुनवाई नहीं है। और दोनों साहब बंगाल और असम चुनाव में व्यस्त हैं।

यह वक्त कभी भूलना मत।“

“जब आग की लपटें अपने घर तक पहुँचती हैं तो सबकी आँखें खुलने लगती हैं। क़ानून मंत्री ब्रजेश पाठक ने आज स्वास्थ्य सचिव को चिट्ठी लिख कर लखनऊ की भयानक स्थिति पर चिंता जताई है।

न एंबुलेंस, न जाँच, न बेड, मंत्री जी ने कहा ‘रोज सैकड़ों फ़ोन आ रहे हैं, हम समुचित इलाज नहीं दे पा रहे हैं’।”

“तुम क्या बात करते हो?

तुम्हारे पास 1 हज़ार करोड़ का विज्ञापन देने के पैसे थे, पर वेंटीलेटर ख़रीदने के नहीं?

आज अगर तुमने प्रभावित जिलों में 1000 ICU बेड आपातकाल के लिए सुरक्षित रखे होते तो हम खुद कह देते ‘काम दमदार’।

पर तुम विज्ञापनों की हसीन दुनिया में मग्न थे।

शर्म करो।”

“लखनऊ बीमार है, बहुत बीमार l

योगी जी, अपना ख्याल रखिये l”

“कोरोना संक्रमण में मृत्यु दर के मामले में अब बंगाल तीसरे स्थान पर है।

बधाई हो प्रधानमंत्री जी।”

इससे पहले उन्होंने ट्वीट किया था,

“यूपी सरकार ने संख्या कम करने के लिए बहुत ही खतरनाक तरीका अपनाया है:

1. निजी लैब्स में टेस्ट पूरी तरह से बंद हैं।

2. RTPCR कम और एंटीजेन टेस्ट ज्यादा किए जा रहे हैं।

जो मरीज जाँच कर बचाए जा सकते थे अब वो भी खतरे में हैं, संख्या कम कर ईज़्जत बचाने की यह स्कीम सैकड़ों जानें लेगी।”

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

political prisoner

“जय भीम” : जनसंघर्षों से ध्यान भटकाने का एक प्रयास

“जय भीम” फ़िल्म देख कर कम्युनिस्ट लोट-पोट क्यों हो रहे हैं? “जय भीम” फ़िल्म आजकल …

Leave a Reply