Home » Latest » तुम मुझे मामूल बेहद आम लिखना
Literature news

तुम मुझे मामूल बेहद आम लिखना

तुम मुझे मामूल

बेहद आम लिखना

जब भी लिखना

फ़क़त गुमनाम लिखना

यह शरारों की चमक

यह लहजों की शहद

रौशनी की शोहरतें

दियों की जद्दोजहद

मशहूरियत की ख़्वाहिश

बेवजह की नुमाइश

ये चमकते हुए दर

सजदों में पड़े सर

एय ऐब-ए-बेताबी

तू सुन ….

कामयाबी …

धूप का तल्ख सफ़र है

पैरों तले की ज़मीन जलेगी

छांव नहीं देगी

तुझे परछाईंयां छलेंगीं

तू चल

किसी सम्त तो कोई बादल दिखेगा

साँझ का सूरज यकीनन चाँद लिखेगा

तू सोचता है कि

वो तुझसे बड़ा है

सच ये है वो भी किसी

परछाईं के साये में खड़ा है

डॉ. कविता अरोरा

हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें. ट्विटर पर फॉलो करें. वाट्सएप पर संदेश पाएं. हस्तक्षेप की आर्थिक मदद करें

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

national news

भारत में मौत की जाति 

Death caste in India! क्या मौत की जाति भी होती है? यह कहना अजीब लग …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.