शब्द > पुस्तक समीक्षा
guru dutt a life in cinema - कोई दूर से आवाज़ दे चले आओ
Guru Dutt: A Life in Cinema - कोई दूर से आवाज़ दे चले आओ..

शायद कभी किसी के बारे में इस कदर नहीं सोचा, जितना गुरुदत्त के बारे में..जैसे शरत चंद का काल्पनिक चरित्र देवदास किवदंती बन गया

राजीव मित्तल
2017-12-21 14:15:12
मतलब की बातें भी जब बेमतलब-सी लगने लगीं तो इस किताब की ज़रूरत सामने आई
मतलब की बातें भी जब बेमतलब-सी लगने लगीं तो इस किताब की ज़रूरत सामने आई

इस संग्रह में लेखक ने हर ज़रूरी बात भर रखी है, ताकि आप हमेशा अपडेट रहें और किसी मुसीबत में ना पड़ें। देशभक्त हैं तो क्या क्रांतिकारी न होंगे। विर...

अतिथि लेखक
2017-12-12 10:00:22
शीघ्र ही पुस्तक समीक्षा kanshiram leader of the dalits हस्तक्षेप पर
शीघ्र ही पुस्तक समीक्षा Kanshiram: Leader of the Dalits हस्तक्षेप पर

शीघ्र ही पुस्तक समीक्षा Kanshiram: Leader of the Dalits हस्तक्षेप पर

हस्तक्षेप डेस्क
2017-11-17 12:14:06
व्यावहारिक निर्देशिका पटकथा लेखन  एक जरूरी किताब
व्यावहारिक निर्देशिका पटकथा लेखन : एक जरूरी किताब

'जिसने लाहौर नहीं वेख्या वो जनम्या ही नहीं' जैसे विख्यात नाटक के रचनाकार असग़र वजाहत की 'व्यवहारिक निर्देशिका पटकथा लेखन' नये और उभरते हुए पटकथा ...

अतिथि लेखक
2017-09-20 22:50:14
समाज का प्रकृति एजेण्डा जगाती एक पुस्तक
हरियाणा के जन्म की कहानी आला हाकिम की ज़ुबानी
हरियाणा के जन्म की कहानी, आला हाकिम की ज़ुबानी

हरियाणा के विकास में तीन लालों का बहुत अहम योगदान है। देवी लाल, बंसी लाल और भजन लाल ने हरियाण को जो स्वरूप दिया, उसी से हरियाणा की पहचान बनी है।

शेष नारायण सिंह
2017-09-03 21:39:26
स्त्री-संघर्ष का नया सौन्दर्यशास्त्र रचती कविताएँ
स्त्री-संघर्ष का नया सौन्दर्यशास्त्र रचती कविताएँ

सरला जी की कविताओं में कुंठित और निराश औरतें नहीं हैं, ये एक खास बात है। संघर्षशीलता कुंठा को खत्म करती है।

अतिथि लेखक
2017-08-22 16:56:29