शब्द > पुस्तक समीक्षा
ब्राह्मणवाद की वजह से हिंदू संस्‍कृति राष्‍ट्रविरोधी है हिंदू राष्‍ट्रवाद या हिंदुत्‍व का हिंदू धर्म से कोई लेना-देना नहीं- स्‍वामी धर्म तीर्थ
ब्राह्मणवाद की वजह से हिंदू संस्‍कृति राष्‍ट्रविरोधी है, हिंदू राष्‍ट्रवाद या हिंदुत्‍व का हिंदू धर्म से कोई लेना-देना नहीं- स्‍वामी धर्म तीर्थ

ब्राह्मणवाद हिंदुओं के पतन का जिम्‍मेदार है। हिंदू राष्‍ट्रवाद या हिंदुत्‍व का हिंदू धर्म से कोई लेना-देना नहीं है। आरएसएस असल में हिंदू विरोधी ...

अभिषेक श्रीवास्तव
2017-06-22 18:22:24
कालजयी रचना  विभाजन की त्रासदी का सच है ‘तमस’
कालजयी रचना : विभाजन की त्रासदी का सच है ‘तमस’

इस उपन्यास में आजादी के ठीक पहले साम्प्रदायिकता के चरम उभार और दंगों का ऐसा चित्रण किया गया है कि वह पाठकों की आत्मा को झकझोर डालता है।

अतिथि लेखक
2017-06-07 15:23:59
औरतखोर  आनंद कुरेशी का स्वाभिमान राजहंस की तरह गर्दन उठाए रहता है
'औरतखोर' : आनंद कुरेशी का स्वाभिमान राजहंस की तरह गर्दन उठाए रहता है

ऐसी दोस्तियाँ और साहित्यिक अड्डेबाजी बची रहनी चाहिए ताकि आनंद कुरेशी जैसे कई लेखक इस शहर को पहचान दिलाएं.

हस्तक्षेप डेस्क
2017-06-04 20:25:39
वहाँ पानी नहीं है  दर्द को जुबान देती कविताएँ
वहाँ पानी नहीं है : दर्द को जुबान देती कविताएँ

दिविक रमेश कविताओं में जिस तरह शब्दों को बरतते हैं, उससे एक सांगीतिक रचना भी होती है।

हस्तक्षेप डेस्क
2017-05-26 16:09:07
वह लड़की जो मोटरसाइकिल चलाती है
वह लड़की जो मोटरसाइकिल चलाती है

हमारी दुनिया में इतने रंग और जटिलताएं हैं कि उन्हें समेटना हो तो कविता करने से सरल कोई तरीका नहीं हो सकता...जो समय की जटिलता को समेटती है वो कवित...

अतिथि लेखक
2017-05-12 18:24:23
दंगे होते नहीं करवाये जाते हैं  कंधमाल का सच और न्याय प्रक्रिया की हताशा
दंगे होते नहीं करवाये जाते हैं : कंधमाल का सच और न्याय प्रक्रिया की हताशा

न्याय प्रक्रिया गरीब के साथ में दिखाई नहीं देती और अदालतों में वकीलों के चक्कर काटना उनके लिए उत्पीड़न की एक नयी श्रंखला है, जिससे बच पाना बहुत म...

Vidya Bhushan Rawat
2017-03-31 13:14:42
जाति माथे पर नहीं लिखी होती पर जब लिखी जाती है तो माथे पर ही लिखी जाती है।
जाति माथे पर नहीं लिखी होती पर जब लिखी जाती है तो माथे पर ही लिखी जाती है।

जाति माथे पर नहीं लिखी होती पर जब लिखी जाती है तो माथे पर ही लिखी जाती है। सदियों से लिखी है, पढ़ने वाले पढ़ते हैं और तय करते हैं कि नाक भौंह सिं...

हस्तक्षेप डेस्क
2017-03-15 16:48:43
जी मायावती ने नहीं अडवानी ने ईवीएम से मतदान बंद कराने की मांग की थी
यहां से देखो इस्लाम और मुसलमान विरोधी घृणा
यहां से देखो इस्लाम और मुसलमान विरोधी घृणा

इस्राइल का धार्मिक तत्ववाद ज्यादा कट्टर और हिंसक है। मध्य-पूर्व का संकट इस्राइल और अमरीका की देन है।अमरीका के विरोध के राजनीतिक कारण हैं न कि धार...

जगदीश्वर चतुर्वेदी
2017-01-31 12:03:01
बक्सादुआर के बाघ-1
बक्सादुआर के बाघ-1

पलाश विश्वास
2017-01-23 12:18:46
पूंजीवादी समाज और संस्कृति के बीच इंसान की बौनी होती हैसियत और जदीदी ग़ज़ल की संजीदगी
ब्राह्मणवाद के विरुद्ध एक सांस्कृतिक विद्रोह- दुर्गा-महिषासुर के मिथक का एक पुनर्पाठ
ब्राह्मणवाद के विरुद्ध एक सांस्कृतिक विद्रोह- दुर्गा-महिषासुर के मिथक का एक पुनर्पाठ

एक मशहूर अफ्रीकन कहावत है, “जब तक शेरों के अपने इतिहासकार नहीं होंगे, इतिहास शिकारी का ही महिमामंडन करता रहेगा.”

अतिथि लेखक
2017-06-18 19:06:44
वेश्या एविलन रो का उपाख्यान  ब्रेख़्त की कविताएँ
वेश्या एविलन रो का उपाख्यान : ब्रेख़्त की कविताएँ

ब्रेख़्त की कविताओं में ‘लोरियाँ’ हैं, ‘क्रान्ति के अनजान सिपाही की समाधि का पत्थर’ है तो ‘देशवासियों’ से ‘जनता की रोटी’ का सवाल भी है।

अतिथि लेखक
2017-06-12 23:04:53
क्या मौजूदा किसान आंदोलन राजनीति से प्रेरित है ?