शब्द > पुस्तक समीक्षा
वाराणसी  आजादी की लड़ाई का चमकता कम्युनिस्ट सितारा कामरेड रुस्तम सैटिन
वाराणसी : आजादी की लड़ाई का चमकता कम्युनिस्ट सितारा कामरेड रुस्तम सैटिन

एक बार छूटने के बाद उन्हें फिर गिरफ्तार कर लिया गया और लखनऊ के कैम्प जेल में रखा गया था जो टीन की चादरों वाले छत की जेल थी। इस जेल की गर्मी में अ...

वीरेन्द्र जैन
2018-10-07 16:18:33
हमारे समय का सच- रूममेट्स
हमारे समय का सच- रूममेट्स

सीत हार गई, लेकिन इससे क्या फर्क पड़ता है। वह झाँसी वाली भी तो हार गई थी, कुछ लड़ाइयो में लड़ने का हौसला जुटा पाना ही जीत होती है।

अतिथि लेखक
2018-09-20 22:03:38
सभी मोर्चों पर फेल मोदी सरकार कर रही ‘भारत की अवधारणा‘ पर चोट
आलेख रूपी मोतियों से सजी पुस्तक ‘दो टूक’
आलेख रूपी मोतियों से सजी पुस्तक ‘दो टूक’

पर्यावरणीय समस्या को लेकर इस पुस्तक के पहले ही निबंध ‘विकराल होती ग्लोबल वार्मिंग की समस्या’ में न केवल इस गंभीर समस्या पर प्रकाश डाला गया है

एजेंसी
2018-06-15 23:19:16
सम्पूर्ण राष्ट्र की गंवई राजनीति में फैली अराजकता का एक नग्न दस्तावेज़ है मदारीपुर जंक्शन
सम्पूर्ण राष्ट्र की गंवई राजनीति में फैली अराजकता का एक नग्न दस्तावेज़ है 'मदारीपुर जंक्शन'

मदारीपुर-जंक्शन नामक एक गाँव है जिसमें एक ओर यदि मदारीमिज़ाज चरित्रों का बोलबाला है तो दूसरी ओर यह समस्त विद्रूपताओं का सम्मिलन-स्थल भी है।

अतिथि लेखक
2018-05-28 20:35:32