आज के दौर का तराना : लड़ते हुवे सिपाही का गीत बनो रे, हारना है मौत, तुम जीत बनो रे

लड़ते हुवे सिपाही का गीत बनो रे, हारना है मौत, तुम जीत बनो रे।  गाइये, दोस्तों/परिवार/पड़ोस को सुनाइये। ...

आज के दौर का तराना : लड़ते हुवे सिपाही का गीत बनो रे, हारना है मौत, तुम जीत बनो रे

शम्सुल इस्लाम

जब हमारे देश और दुनिया में अपराधी, फ़ासीवादी तत्व/संगठन/व्यक्ति मौत के सौदागर बनकर उन सब असूलों को मलियामेट करने में लगे हौं जो इंसान ने हज़ारों सालों में ज़ुल्म, अत्याचार और नाइंसाफ़ी से लड़ते हुवे, बेमिसाल क़ुर्बानिएं देकर, जीवित रखें हैं तो क्या हम खामोश बैठ बेठ सकते हैं, क़तई नहीं। हमें साथी बृजमोहन का यह गीत गाना ही होगा। 

लड़ते हुवे सिपाही का गीत बनो रे,

हारना है मौत, तुम जीत बनो रे। 

गाइये, दोस्तों/परिवार/पड़ोस को सुनाइये। 

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।
क्या मौजूदा किसान आंदोलन राजनीति से प्रेरित है ?