ललित सुरजन के निधन पर बोले भूपेश बघेल -छत्तीसगढ़ ने अपना एक सपूत खो दिया

Bhupesh Baghel said on the death of Lalit Surjan - Chhattisgarh lost one of its sons

Bhupesh Baghel said on the death of Lalit Surjan – Chhattisgarh lost one of its sons

नई दिल्ली, 02 दिसंबर 2020. हिंदी दैनिक देशबन्धु के प्रधान संपादक ललित सुरजन का निधन हो गया है। श्री सुरजन के निधन पर छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा है कि छत्तीसगढ़ ने अपना एक सपूत खो दिया।

श्री बघेल ने अपने सत्यापित फेसबुक पेज पर लिखा,

“प्रगतिशील विचारक, लेखक, कवि और पत्रकार ललित सुरजन जी के निधन की सूचना ने स्तब्ध कर दिया है। आज छत्तीसगढ़ ने अपना एक सपूत खो दिया।

सांप्रदायिकता और कूपमंडूकता के ख़िलाफ़ देशबंधु के माध्यम से जो लौ मायाराम सुरजन जी ने जलाई थी, उसे ललित भैया ने बखूबी आगे बढ़ाया।

पूरी ज़िंदगी उन्होंने मूल्यों को लेकर कोई समझौता नहीं किया।

मैं ईश्वर से उनकी आत्मा की शांति और शोक संतप्त परिवार को संबल देने की प्रार्थना करता हूं।

ललित भैया को मैं छात्र जीवन से ही जानता था और राजनीति में आने के बाद समय-समय पर मार्गदर्शन लेता रहता था।

वे राजनीति पर पैनी नज़र रखते थे और लोकतंत्र में उनकी गहरी आस्था थी। नेहरू जी के प्रति उनकी अगाध श्रद्धा मुझे बहुत प्रेरित करती थी।

उनके नेतृत्व में देशबंधु ने दर्जनों ऐसे पत्रकार दिए हैं, जिन पर छत्तीसगढ़ और मप्र दोनों को गर्व हो सकता है।“

बता दें ललित सुरजन जी पिछले दो दिन से पूर्वी दिल्ली के धर्मशिला-नारायणा अस्पताल में भर्ती थे, उन्हें वेंटीलेटर पर रखा गया था।

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Leave a Comment
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations