Advertisment

डॉ. कविता अरोरा

नदी का दिल उचट गया है इंसानों के आडम्बर पूर्ण प्रेम से

नदी का दिल उचट गया है इंसानों के आडम्बर पूर्ण प्रेम से

The heart of the river is shaken by the pompous love of humans शायद नदी  भागीरथ की खोज में है  जिसके सहारे पा सके  फ़लक तक  वापसी के रास्ते मगर  धरती स्तब्ध है 
Advertisment
सदस्यता लें